MP : छिंदवाड़ा को मिलेगी बड़ी राहत : रेस्टोरेंट, चाय की दुकान, पान के ठेले और चौपाटी खोलने के जारी हो सकते हैं आदेश

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

छिंदवाड़ा में ढाई माह बाद राहत भरी खबर आना शुरू हुई है। पिछले दो दिनों से जिले में एक भी संक्रमित मरीज नहीं मिल रहा है। ऐसे में अब आर्थिक गतिविधियों की ओर शासन-प्रशासन का फोकस है। अब प्रशासन द्वारा छूट का दायरा बढ़ाने की तैयारी भी की जा रही है। आज-कल में आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में छूट को लेकर विचार विमर्श किया जा सकता है। इसके साथ ही नए आदेश भी जारी हो सकते है।

तीसरी लहर में छूट ! अब शादियों में दोनों पक्ष के 20-20 लोग होंगे शामिल, क्या कब तक बंद रहेगा और किसे छूट मिलेगी, ये क्राइसिस मैनेजमेंट ही तय करेगा

गौरतलब है कि वर्तमान समय में व्यापारिक प्रतिष्ठान ऑड ईवन व्यवस्था के तहत खोले जा रहा है। वहीं चाय-पान ठेला और चौपाटी की दुकानों पर प्रतिबंध हैंं। नए आदेश में चाय-पान ठेला और चौपाटी सहित सैलून दुकानों कोराहत मिल सकती है। साथ ही कुछ शर्तों के साथ रेस्टोरेंट संचालकों को भी राहत दी जा सकती है। हालांकि इस दौरान महाराष्ट्र सीमा पर जांच जारी रहेगी।

15 जून तक लागू लॉकडाउन के बाद और छूट के CM शिवराज ने दिए संकेत : आज प्रदेश में पॉजिटिविटी सिर्फ 0.3% रह गई

वीडियो कांफ्रेंस में सीएम ने दिए निर्देश

रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठक ली गई। इस दौरान स्थानीय कलेक्ट्रेट वीडियो कांफ्रेंस कक्ष में कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन, एसपी विवेक अग्रवाल, पूर्व मंत्री चौधरी चंद्रभान सिंह, पूर्व विधायक रमेश दुबे, भाजपा जिलाध्यक्ष विवेक बंटी साहू, कांग्रेस अध्यक्ष विश्वनाथ ओक्टे, सांसद प्रतिनिधि जेपी सिंह, जिप सीईओ गजेंद्र सिंह नागेश, सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में सीएम ने कहा कि पॉजीटिवटी दर और एक्टिव केस के आधार पर प्रतिबंधों में छूट तय किया जाए। उन्होंने विवाह समारोह में 40 व्यक्तियों की उपस्थिति का प्रावधान लागू करने कहा।

दिल्ली से लेकर MP तक संकेत : सिंधिया की मोदी कैबिनेट में एंट्री जल्द, मिल सकती है रेलवे की कमान

कांग्रेस जिला अध्यक्ष बोले- छिंदवाड़ा को सीएम ने किया अनदेखा

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल जिला कांग्रेस अध्यक्ष विश्वनाथ ओकटे ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री द्वारा छिंदवाड़ा को अनदेखा करने का आरोप लगाया । उन्होंने कहा कि कई बार छिंदवाड़ा के जनप्रतिनिधियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम से संपर्क करना चाहा, लेकिन उन्होंने छिंदवाड़ा की तरफ ध्यान तक नहीं दिया। यहां तक कि सीएम ने सिवनी जिले के लोगों से बात की लेकिन छिंदवाड़ा के किसी भी जनप्रतिनिधि से उन्होंने बात नहीं की। कांग्रेस अध्यक्ष का कहना था कि वे कोरोना प्रोटोकॉल के दौरान जिन जिन लोगों का अंतिम संस्कार किया गया है उन्हें कोरोना से मृत्यु का प्रमाण पत्र देने के लिए सीएम के समक्ष अपनी बात रखना चाह रहे थे , ऐसे में उनके साथ पूर्व भाजपा विधायकों की बात भी सीएम ने नहीं सुनी।

Powered by Blogger.