ब्लैक फंगस के मरीजों को अब नई परेशानी; जबड़े की हड्‌डी सड़ रहीं, हमीदिया में 20 से ज्यादा मामले आए सामने , कई के जबड़े काटकर अलग करना पड़ा

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीजों में अब दुर्लभ बीमारी ऑस्टियोमोलाइटिस देखने मिल रही है। यह बीमारी स्वस्थ होकर घर जाने वाले मरीजों में सामने आ रही है। ये मरीज ब्लैक फंगस की सर्जरी और एंटी फंगल इंजेक्शन से स्वस्थ हुए हैं। अब ऑस्टियोमोलाइटिस बीमारी से मरीज के तालू और ऊपरी जबड़े की हड्‌डी सड़ रही है। पिछले कुछ दिनों में हमीदिया अस्पताल में ही इसके 20 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि यह बीमारी नई नहीं है, लेकिन अब तक कई वर्षों में इसके एक-दो मामले ही देखने को मिलते थे। अचानक ब्लैक फंगस पीड़ितों के मामले बढ़ने के साथ ही इस बीमारी से पीड़ितों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। अब सप्ताह में दो-तीन मामले सामने आ रहे हैं।

क्या है ऑस्टियोमोलाइटिस

ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस नाम के फंगस से पीड़ित के तालू और ऊपरी जबड़े की रक्त कोशिकाओं में खून के थक्के जम जाते हैं। इससे हड्‌डियों तक खून की सप्लाई बाधित हो जाती है। इसके कारण हड्‌डियां सड़ने लगती हैं। इसे ही ऑस्टियोमोलाइटिस कहते हैं।

यह है इलाज

ऑस्टियोमोलाइटिस बीमारी में सड़ी हुई हड्‌डी को ऑपरेशन करके अलग करना पड़ता है। इसमें हड्‌डी के साथ तालू और ऊपरी जबड़ा काटना पड़ता है। ऐसे में मरीज को खाने-पीने में दिक्कत होती है। इस बीमारी के निजी अस्पताल मे बेड/दवा/इलाज पर एक से डेढ़ लाख रुपए का खर्च आता है।

ये हैं लक्षण

इस बीमारी के कारण ऊपरी जबडे में सूजन आने लगती है। अचानक दांत हिलने लगते हैं। उनमें दर्द होने लगता है। ऊपरी मसूड़ों पर पस के साथ सफेद दाने बन जाते हैं। ऊपर के होंठ सुन्न हो जाते हैं। तालू की चमड़ी भी सड़ने के कारण गलने लगती है।

हमीदिया के दंत रोग विभागाध्यक्ष डॉ. अनुज भार्गव ने बताया कि इस बीमारी का जितनी जल्दी इलाज शुरू होगा, उतना कम हिस्सा काटना पड़ेगा। कई रिसर्च में सामने आया, यह बीमारी पिछले 50 सालों में एक हजार में से सिर्फ 0.14 लोगों को ही होती है। अभी इसके केस तेजी से सामने आए हैं। कई लोगों के तालू और जबड़ों को काट कर अलग करना पड़ा है। इस बीमारी के ज्यादा मामले सामने आने का कारण ब्लैक फंगस से बड़ी संख्या में लोगों का संक्रमित होना है। हमीदिया में ही कुछ दिनों में ऑस्टियोमोलाइटिस से पीड़ित 10 से ज्यादा लोगों के ऑपरेशन किए जा चुके हैं।

Powered by Blogger.