MP में सबसे बड़ी परीक्षा कल : प्रदेश के सभी 52 जिलों से तीन लाख से अधिक अभ्यर्थी होंगे शामिल : PSC EXAM को लेकर यह भी जानें...

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

कोरोना की दूसरी लहर थमने के बाद मध्य प्रदेश में सबसे बड़ी परीक्षा होने जा रही है। लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा एवं वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2020 रविवार को होगी। परीक्षा प्रदेश के सभी 52 जिलों में 1 हजार सेंटर पर होगी। परीक्षा दो सत्रों में होगी। परीक्षा में तीन लाख 44 हजार 491 अभ्यर्थी शामिल होंगे। पहला सत्र सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक एवं दूसरा सत्र दोपहर 2.15 बजे से शाम 4.15 बजे तक आयोजित होगा। प्रदेशभर में कुल एक हजार 11 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। कोविड संक्रमित अभ्यर्थियों के लिए कुल 64 केंद्र रहेंगे। इंदौर में इसके लिए तीन सेंटर बनाए गए हैं। MGM स्थित सेंटर पर बैठक व्यवस्था पूरी तरह से जिगजैक तरीके से रहेगी।

महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय (MGM) के केन्द्राध्यक्ष डॉ. अशोक ठाकुर ने बताया कि काेविड पाॅजिटिव अभ्यर्थियों के लिए सेंटर पर सभी तैयारियां कर ली गई थीं। यहां पर कोविड के प्रोटोकाल के अनुसार ही व्यवस्था की गई है। एग्जाम के लिए ड्यूटी पर तैनात सभी स्टाफ PPE किट पर तैनात रहेंगे। कोविड पॉजिटिव मरीज कोई भी मरीज हमारे यहां पर सीधे अलॉट नहीं किया गया है।

संक्रमित को अपने सेंटर पर संपर्क करना होगा। वहां उसे कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट केंद्राध्यक्ष को दिखाना होगा। इसके बाद वे हमें सूचना देंगे और हम उनके एग्जाम की प्रक्रिया को पूरा करेंगे। ऐसे अभ्यर्थियों के लिए सेंटर से हमारे सेंटर तक लाने के लिए प्रशासन की ओर से व्यवस्था की गई है।

ठाकुर के अनुसार ऐसे बच्चों को परेशानी से बचने के लिए सुबह करीब डेढ़ से दो घंटे पहले उन्हें सेंटर पर पहुंचा जरूरी होगा। ऐसे में वे वहां से आसानी से हमारे सेंटर पर आकर पेपर दे पाएंगे। हालांकि, हमारे यहां पर कोई सीधे भी आता है तो हम उसके अलॉट सेंटर पर संपर्क कर कागजी कार्रवाई पूरी कर परीक्षा दिलवाएंगे। उन्होंने कहा कि सबसे जरूरी बात यह है कि यदि किसी को सर्दी खांसी है, लेकिन उसकी रिपोर्ट निगेटिव है तो उसे हमारे सेंटर पर आने की जरूरत नहीं है। ऐसे बच्चों को लेकर हर सेंटर में एक आइसोलेशन रूम की व्यवस्था की गई है। ऐसे छात्र वहां पर बैठकर परीक्षा दे पाएंगे।

बैठक व्यवस्था जिगजैग रहेगी

MGM के प्रशांत चाैहान ने बताया कि काेविड पाॅजिटिव अभ्यार्थियों के लिए अलग तरह से व्यवस्था की गई है। पूरी बैठक व्यवस्था जिगजैक रहेगी। पेपर 4 सेट में आएगा। एक सीट पर एक ही परीक्षार्थी होगा। ऐसे में यदि कोई अभ्यार्थी पहली सीट पर बैठा है तो उसके पीछे की सीट को खाली छोड़ दिया जाएगा। वहीं, उसकी पास से लगे पहले टेबल को छोड़कर उसकी पीछे वाली सीट पर परीक्षार्थी बैठेगा। इसी प्रकार से जिगजैग तरीके से एक सीट छोड़कर सभी को बैठाया जाएगा।

PSC को लेकर यह भी जानें...

सवा साल बाद हो रहा है कोई बड़ा एग्जाम। 12 जनवरी 2020 को हुई थी राज्य सेवा प्री-एग्जाम-2019।

कोविड की वजह से 2020 की यह परीक्षा दो बार टाली गई। पहले 11 अप्रैल और फिर 20 जून की तारीख थी।

कोरोना काल में यह पहली बड़ा एग्जाम है, जिसमें 3 लाख 44 हजार अभ्यर्थी ऑफलाइन शामिल होंगे।

एक घंटे पहले पहुंचें सेंटर

दोनों सत्र में एग्जाम के समय से कम से कम एक घंटे पहले पहुंचे।

यह लेकर जाएं

एडमिट कार्ड साथ ले जाएं।

आधार कार्ड भी साथ रखें।

यह न ले जाएं?

घड़ी पहनकर न जाएं।

बेल्ट, कैप, चश्मा, पर्स, मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ न जाएं।

ऐसे होगी एंट्री

मुख्य गेट पर पर्यवेक्षक चेकिंग लेंगे। जेब चेक होगी।

क्या ध्यान रखें

मास्क पहनकर जाएं।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

हाथों को सैनिटाइज करते रहें।

यहां से करें प्रवेश पत्र डाउनलोड

मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2020 का प्रवेश पत्र वेबसाइट www.mppsc.nic.in, www.mppsc.com और www.mponline.gov.in पर अपलोड कर दिया गया है। प्रारंभिक परीक्षा दो सत्रों में आयोजित होगी। सामान्य अध्ययन का प्रथम प्रश्न पत्र सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और सामान्य अभिरूचि परीक्षण का द्वितीय पेपर दोपहर 2.15 बजे से शाम 4.15 बजे तक आयोजित होगा।

इंदौर में कोविड संक्रमितों के लिए यह जानना जरूरी

सभी कोविड- 19 से संक्रमित परीक्षार्थी या जिनमें कोविड-19 के लक्षण हों वे परीक्षा देने सीधे महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय एबी रोड परीक्षा केन्द्र में पहुंच सकते हैं। परीक्षार्थी इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए केन्द्राध्यक्ष डॉ.अशोक ठाकुर के मोबाइल नंबर 90390-58883 पर संपर्क कर सकते हैं।

वहीं जबलपुर में मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग ने पूर्व मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग विपिन ब्यौहार को संभागीय पर्यवेक्षक बनाया है। अभ्यर्थियों के लिए मोबाइल नंबर 9425865005 जारी किया गया है। किसी भी समस्या पर वे इस नंबर पर शिकायत या मदद प्राप्त कर सकेंगे।

इंदौर में 101 परीक्षा केंद्र

इंदौर जिले में 101 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इनमें 38 हजार 79 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने किसी भी तरह की नकल या गड़बड़ी पर निगरानी के लिए 101 अफसरों को जिम्मेदारी सौंपी है। जिले में तीन परीक्षा सेंटर कोरोना संक्रमित अभ्यर्थियों के लिए आरक्षित किए गए हैं। इनमें एमजीएम मेडिकल कॉलेज, शासकीय निर्भय सिंह पटेल साइंस कॉलेज शामिल हैं।

इंदौर संभाग में 230 सेंटर

इंदौर संभाग में कुल 230 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इन पर 76 हजार 673 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। संभाग में कोरोना संक्रमित अभ्यर्थियों के लिए इनमें से 11 परीक्षा केंद्र रहेंगे।

Powered by Blogger.