REWA : संजय गांधी अस्पताल से लेकर बिछिया जिला अस्पताल तक 80 फीसदी वायरल इन्फेक्शन के पेशेंट : कोरोना की तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच लोगों की चिंताएं भी बढ़ रही

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा शहर के संजय गांधी अस्पताल से लेकर बिछिया जिला अस्पताल तक पहुंचने वाले मरीजों में 80 फीसदी वायरल इन्फेक्शन के पेशेंट आ रहे है। आलम है कि ज्यादातर मरीजों को सर्दी-जुकाम और बुखार से पीड़ित है। इधर कोरोना की तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच लोगों की चिंताएं भी बढ़ रही है। ऐसे में दो-तीन दिन बाद बुखार न उतरने पर लोग चिकित्सकों के पास पहुंच रहे हैं। यही वजह है कि अस्पताल में मरीजों की भीड़ बढ़ रही है। वहीं वायरल के साथ ही डेंगू और मलेरिया भी पैर पसार रहा है।

मेडिसीन विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. राकेश पटेल ने बताया कि संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय की ओपीडी में प्रतिदिन 15 सौ मरीज पहुंच रहे हैं। जिसमें ज्यादातर मरीज मेडिसीन विभाग के रहते हैं। दावा है कि चिकित्सकों के पास सर्वाधिक मरीज बुखार की शिकायत लेकर पहुंच रहे हैं। चिकित्सकों की मानें तो सबसे ज्यादा मरीज इस समय वायरल इंफेक्शन के आ रहे हैं। निजी अस्पतालों और चिकित्सकों की क्लीनिक में भी मरीजों की ज्यादा भीड़ पहुंच रही है। ऐसे में पैथालॉजी केन्द्रों में भी खूब जांचे हो रही हैं।

दो-तीन दिन इंतजार के बाद पहुंच रहे अस्पताल

मरीज के परिजनों ने बताया कि सर्दी-जुकाम और बुखार आने पर पहले मेडिकल स्टोर से दवा लेकर काम चला रहे थे। लेकिन जब दो-तीन दिन बाद आराम नहीं मिला तो डॉक्टरों के पास पहुंच रहे हैं। चिकित्सकों को दिखाने के बाद आई जांच रिपोर्ट में कई लोगों को डेंगू और मलेरिया के लक्षण मिल रहे है। जिससे चिकित्सक भर्ती कर इलाज कर रहे है।

क्यों हो रहा वायरल इंफेक्शन

डॉक्टरों ने बताया कि एक सप्ताह से वायरल इंफेक्शन का सीजन चल रहा है। क्योंकि हवा में नमीं की वजह से यह स्थितियां निर्मित हो रही है। इन दिनों मौसम में वायरल ज्यादा समय तक जिन्दा रहता है। जिसके कारण ज्यादातर लोग प्रभावित हो रहे हैं। वायरल इंफेक्शन का असर एक सप्ताह तक रह सकता है। शरीर में दर्द, सिर दर्द, बुखार, सर्दी-जुकाम और खांसी भी हो सकती है। इसमें मरीजों को दवाएं के साथ आराम करने की सलाह दी जाती है।

Powered by Blogger.