REWA : कच्चा मकान धराशाई का मामला : कलेक्टर ने पीडि़त परिवार को 17.60 लाख आर्थिक सहायता के साथ विधवा पेंशन किया स्वीकृत

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें


रीवा. बारिश के दौरान कच्चा मकान धराशाई होने से एक परिवार के चार के मारे जाने के बाद जिला प्रशासन ने विभिन्न योजनाओं के तहत मृतक परिवार को विभिन्न योजनाओं के तहत 17.60 लाख रुपए की आर्थिक सहायता के लिए स्वीकृति दी है। जिसमें कलेक्टर ने इलैयाराजा टी ने घटना स्थल पर ही दो अलग-अलग मद के चालीस हजार रूपए पीडि़त परिवार को उपलब्ध करा दिए हैं। इसके अलावा प्रत्येक मृतकों को चार-चार लाख रुपए के साथ 16 लाख रुपए पीडि़त परिवार की आर्थिक मदद के लिए स्वीकृत किया है। कलेक्टर के आदेश पर मृतक मनोज की पत्नी सुलेखा को विधवा पेंशन स्वीकृत की है।

कच्चा मकान भरभराकर जमींदोज हो गया

जिले में रविवार को लगातार 24 घंटे बारिश के दौरान मनगवां तहसील क्षेत्र के घुचियारी गांव के बहेरा ग्राम में मनोज पांडेय के मकान के चारो तरफ जलजमाव हो गया। बीते रविवार को करीब चार बजे भोर उस समय कच्चा मकान भरभराकर जमींदोज हो गया। जब पूरा परिवार सो रहा था। घटना में दो बेटियों के साथ ही मां-बेटे की मौत हो गई। घर में दो बच्चों व मनोज की पत्नी सुलेखा का रो-रोकर बुरहाल है। बताया गया कि प्रयागराज में दाहसंस्कार के बाद पत्नी मायके चली गई थी।

अंत्येष्टी के लिए उपलब्ध कराई गई

कच्चा मकान के आस-पास रहने लायक नहीं है। जिससे वह मायके चली गई। कलेक्टर कार्यालय से जारी पत्र के अनुसार पीडि़त परिवार को बीस हजार रुपए अंत्येष्टी के लिए उपलब्ध कराई गई। बीस हजार रुपए की सहायता रेडक्रॉस की ओर से दी गई। चार-चार लाख रुपए मृतक परिवार को यानी कुल 16 लाख रुपए पीडि़त परिवार को स्वीकृत की है।

मृत्यु प्रमाण पत्र जारी कर दिया

मनगवां एसडीम केपी पांडेय ने बताया कि 95 हजार रुपए कच्चा मकान के ढहने पर स्वीकृत किया गया है। 16 हजार रुपए बछड़े के मारने पर स्वीकृत किया गया है। जबकि पांच हजार रुपए पीडि़त परिवार को बर्तन के लिए स्वीकृत किया गया है। कलेक्टर के आदेश पर मृत्यु प्रमाण पत्र जारी कर दिया है। सीइओ ने बताया कि मनोज के मृतक परिवार को अन्य योजनाओं का लाभ मिलने से राष्ट्रीय परिवार स्वसहायता योजना का लाभ नहीं मिलेगा।
Powered by Blogger.