MP : नशे में चूर लड़कियों की कार ने युवक को कुचला : 12th एग्जाम पास होने की खुशी में पार्टी कर वापस लौट रहीं थी, SWIGGY के डिलीवरी बॉय मौत : परिवार का अकेला सहारा था

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें


इंदौर की AB रोड पर शुक्रवार देर रात नशे में चूर लड़कियों की कार तीन पलटी खाकर स्विगी के डिलीवरी बॉय को टक्कर मार उसके सिरे के ऊपर से गुजर गई। इस हादसे में डिलीवरी बॉय की मौत हो गई। कार ड्राइव कर रही लड़की ने इतनी शराब पी रखी थी कि उससे ठीक से खड़े भी नहीं हुआ जा रहा था। उसकी तीन दोस्तों का भी यही हाल था। घटना राजेंद्र नगर थाना इलाके की है। हादसे के बाद भीड़ ने चारों लड़कियों को घेर लिया। कार में तोड़फोड़ कर दी। पुलिस ने उन्हें छुड़ाया।

राजेंद्र नगर TI अमृता सोलंकी ने बताया कि मृतक की पहचान देवीलाल (39) के रूप में हुई है। कार विजयनगर से ट्रेजर टाउन की ओर जा रही थी। राजेंद्र नगर ब्रिज के पास बाइक पर जा रहे डिलीवरी बॉय को कार ने टक्कर मारी। इसके बाद कार उसके सिर के ऊपर से गुजर गई। पुलिस के मुताबिक कार MIG में रहने वाली गार्गी माहेश्वरी चला रही थी। गाड़ी नितिन माहेश्वरी के नाम से रजिस्टर्ड है। उसके साथ उसकी तीन सहेलियां भी कार में थीं। चारों किसी पार्टी से होकर आ रही थी।

राहगीर बोले- नशे में थी लड़कियां

हादसे के बाद भीड़ ने कार को घेर लिया। लड़कियों के परिजन मौके पर पहुंचे, तो लोगों ने उनकी कार को भी रोक लिया। लोग लड़कियों को थाने लेकर चलने की बात करने लगे। पुलिस लड़कियों को थाने ले गई। शुरुआत में पुलिस ने तीन लड़कियों के नाबालिग होने की बात कही। बाद में पता चला कि सभी कॉलेज स्टूडेंट हैं और बालिग हैं।

कार ने खाई तीन पलटी

पेट्रोल पंप पर काम करने वाले प्रत्यक्षदर्शी अभिषेक सिंह ने बताया कि लड़कियों की कार की स्पीड इतनी तेज थी कि तीन पलटी खाने के बाद डिलीवरी बॉय पर गिरी। लड़कियां इतनी नशे में थीं कि वे कार से निकल भी नहीं पा रहीं थी। TI के मुताबिक तीन लड़कियां ट्रेजर टाउनशिप में रहती हैं। गार्गी विजयनगर में पार्टी करने के बाद उन्हें ही छोड़ने जा रही थी।

परिवार का अकेला सहारा था

देवी सिंह रात में गोपुर चौराहा स्थित मां की रसोई से खाना लेकर निकला था। देवी सिंह उर्फ सोनू ने एक पार्सल की अंबिकापुरी में डिलीवरी की और उसके बाद वापस आ रहा था। घटना में देवी सिंह की मौके पर मौत हो गई थी। देवी सिंह तीन साल से स्विगी में डिलीवरी बॉय था।

दोस्तों ने बताया कि देवी सिंह के दो बच्चे हैं। बड़ा बेटा 8 साल का छोटा 2 साल का है। देवी सिंह के पिता की बचपन में ही मौत हो गई थी। इसके बाद देवी सिंह कई सालों से छोटे-मोटे नौकरी से घर चला रहा था। देवी परिवार के साथ छोटा बांगड़दा में किराए के मकान में रह रहा था। मौत के बाद परिवार में सन्नाटा है। वहीं, परिवार अब इस चिंता में है कि बच्चों और पत्नी का गुजारा कैसे होगा। शुक्रवार देर रात घटना के बाद स्विगी कंपनी के कई डिलीवरी बॉय थाने पर एकत्र हुए थे। उन्होंने कंपनी से मुआवजे की मांग की थी। कंपनी ने परिवार से कागजात मांगे हैं।

TI ने लड़कियों के परिजन से पूछा- पीड़ित परिवार का खर्च कौन उठाएगा

घटना के बाद थाना प्रभारी अमृता सोलंकी ने चारों छात्राओं के परिवार को थाने पर बुलाकर जमकर लताड़ लगाई। यह भी कहा था कि आपकी बच्चियां घर के बाहर क्या कर रही हैं, इसका आपको ध्यान रखना चाहिए। एक गरीब परिवार के व्यक्ति की मौत के बाद उसके परिवार का लालन पालन का खर्चा कौन उठाएगा। यह आप को समझना चाहिए।

Powered by Blogger.