MP : हिंदू बताकर आर्य समाज में शादी : युवती को प्रेम जाल में फंसाकर बनाया गर्भवती, फिर बच्चा हुआ तो बोला- तुम्हें क्रिश्चियन बनना होगा

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

भोपाल के कोहेफिजा इलाके में जबरन धर्म परिवर्तन करवाने की कोशिश का मामला सामने आया है। यहां एक युवक ने युवती को प्रेम जाल में फंसा लिया। युवती के गर्भवती होने पर युवक ने खुद को हिंदू बताकर आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली। इसी युवती ने जब बच्चे को जन्म दिया, तब युवक ने बताया कि वह क्रिश्चियन है। तुम्हें भी यही धर्म अपनाना होगा। यही नहीं, बच्चे को ईसा मसीह की सेवा के लिए सौंपने का दबाव बनाने लगा। युवती ने जब धर्म परिवर्तन और बच्चे को देने से इंकार कर दिया, तो आरोपी ने उसे घर से निकाल दिया। कोहेफिजा पुलिस ने आरोपी युवक व उसकी बहन के खिलाफ मध्यप्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम- 2020 की धाराओं में केस दर्ज किया है।

कोहेफिजा थाने के एसआई रमेश मिश्रा ने बताया, कलेक्ट्रेट कार्यालय के सामने कॉलोनी में रहने वाली 26 साल की युवती की दोस्ती करीब एक साल पहले सोशल मीडिया के जरिए संजय सिंह से हुई। संजय ने उसे प्रेम जाल में फंसा लिया। दोनों के बीच मुलाकात होने लगी। इसी दौरान संजय ने युवती को शादी का झांसा देकर शारीरिक संबंध बना लिए। दोनों लिव इन रिलेशन में श्यामला हिल्स में रहने लगे।

युवती गर्भवती हो गई। युवती ने संजय पर शादी का दबाव बनाया। संजय ने खुद को हिंदू बताते हुए 14 जनवरी 2021 को आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली। 19 अप्रैल 2021 को युवती ने जेपी अस्पताल में बच्चे को जन्म दिया। इसकी जानकारी लगने के बाद संजय अपनी बहन सोनल के साथ अस्पताल पहुंचा। उसने युवती को बताया कि वह हिंदू नहीं, बल्कि ईसाई धर्म का अनुयायी है। उसका असली नाम संजय मसीह है।

संजय ने युवती से कहा कि तुम्हें भी ईसाई धर्म अपनाना पड़ेगा। बच्चे को यीशु के सेवा में लगाउंगा। वह यीशु की राह पर चलेगा। यह सुनकर युवती दंग रह गई। उसने धर्म परिवर्तन करने से इंकार कर दिया। इस पर संजय ने युवती को घर से निकाल दिया। संजय मसीह एमपी नगर में एक कार शो-रूम में नौकरी करता है, जबकि उसकी बहन सोनल घर में ही रहती है।

सोनल ने दिया भाई के षड्यंत्र में साथ

जांच में सामने आया कि संजय का साथ उसकी बहन सोनल भी देती रही है। सोनल भी युवती पर धर्म परिवर्तन के दबाव बना रही थी। उसने ही धर्म परिवर्तन नहीं करने पर घर नहीं आने के लिए धमकी दी थी। पुलिस ने आरोपियों के ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन उनका सुराग नहीं लगा। घटना सामने आने के बाद से वह फरार हैं।

रिश्तेदारों ने नहीं बताया

शादी में संजय ने सभी रिश्तेदारों को बुलाया था। सभी ईसाई समुदाय के रिश्तेदार थे। युवती का कहना है कि शादी के समय भी किसी रिश्तेदार ने उसे संजय के ईसाई होने की बात नहीं बताई थी। सोनल मसीह भी उसे यह समझाती रही कि अगर वह अपनी गृहस्थी अच्छी तरह से चलाना चाहती है, तो ईसाई धर्म अपना ले।

Powered by Blogger.