REWA : चौफाल समिति प्रबंधक को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा : भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

                 

रीवा लोकायुक्त पुलिस ने सीधी जिले में ​दबिश देते हुए चौफाल समिति प्रबंधक को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा है। बताया गया कि 5​ दिन पहले लोकायुक्त एसपी के पास एक समित प्रबंधक की शिकायत पहुंची थी। जब लोकायुक्त की टीम ने शिकायत का सत्यापन किया तो सही पाई गई। ऐसे में भ्रष्टाचारी समित प्रबंधक को बेनकाब करने के लिए गुरुवार का दिन नियत किया गया था।

जैसे ही गुरुवार की सुबह 10.30 बजे आरोपी ने पीड़ित से रिश्वत के 10 हजार रुपए लिए। वैसे ही रीवा लोकायुक्त की टीम ने धर दबोचा। अब आगे की कार्रवाई के लिए समिति प्रबंधक को सीधी सर्किट हाउस ले जाया गया है। जहां भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर खबर लिखे जाने तक कार्रवाई चलती रही।

लोकायुक्त एसपी राजेन्द्र कुमार वर्मा ने बताया कि पुष्पेन्द्र सिंह पिता सन्तोष सिंह (41) निवासी बैरिहा पश्चिम पोस्ट गांधीग्राम जिला सीधी पद समिति प्रबंधक चौफाल को 2 सितंबर की सुबह 10.30 बजे ​10 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया है। आरोपी पुष्पेन्द्र सिंह समिति प्रबंधक चौफाल के खिलाफ लव सिंह पिता स्वर्गीय तहसीलदार सिंह (32) निवासी ग्राम गाड़ा बमन सिंह जिला सीधी ने लोकायुक्त कार्यालय रीवा पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई थी।

पीड़ित ने बताया था कि वह विक्रेता पद पर कठौली तहसील गोपद बनास में पदस्थ था। जिससे खाद्यान्न वसूली की राशि करीब 5 लाख के आसपास जमा करने का नोटिस मिला था। नोटिस के अनुसार 7 दिवस की अवधि में पैसा जमा करना था। ऐसे में नोटिस का समय ज्यादा बढ़ाने के एवज में 15 हजार रुपए की मांग की। एसपी ने शिकायत की गोपनीय जांच कराई तो सही पाई गई। ऐसे में ट्रैपिंग का समय गुरुवार की सुबह निर्धारित किया था।

5 हजार लिए सत्यापन के समय

लोकायुक्त एसपी ने कहा कि आरोपी चौफाल समिति प्रबंधक ने पीड़ित से दो दिन पहले शिकायत के सत्यापन के समय 5 हजार रुपए ले लिए थे। लेकिन 10 हजार रुपए और मांग रहा था। बिना पैसा पूरे लिए नोटिस की समय सीमा नहीं बढ़ा रहा था। ऐसे में धक हाकर कर पीड़ित लोकायुक्त के पास पहुंच गया।

नाग मंदिर के पास लिए 10 हजार रुपए

पीड़ित लव सिंह की मानें तो 5 हजार रुपए लेने के बाद आरोपी समिति प्रबंधक चौफाल पुष्पेन्द्र सिंह द्वारा गुरुवार को सीधी शहर के नाग मंदिर के पास पैसे लेकर आने के लिए बुलाया था। जैसे ही उसने रिश्वत के 10 हजार रुपए दिए। तभी पीछे खड़ी लोकायुक्त की टीम ने पैसे जेब में डालते ही पकड़ ली।

15 सदस्यीय टीम कर रही कार्रवाई

सीधी में लोकायुक्त की कार्रवाई निरीक्षक डोमन सिंह मरावी के नेतृत्व में निरीक्षक प्रमेंद्र सिंह और 15 सदस्यीय दल के द्वारा की जा रही है। आरोपी समि​ति प्रबंधक को गिरफ्तार कर सीधी स​र्किट हादस ले जाया गया। जहां पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की कार्रवाई की जा रही है।

Powered by Blogger.