REWA : कल प्रतिमाओं के विसर्जन के बाद मनाया जाएगा दशहरा पर्व, शहर की यातायात व्यवस्था में किये गए ये परिवर्तन : ऐसे रहेगा कल का रूट

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा शहर में 15 अक्टूबर को दशहरा पर्व मनाया जायेगा। इस दिन नवरात्रि उत्सव के समापन के साथ दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन भी किया जायेगा। रीवा नगर निगम क्षेत्र में प्रतिमाओं के विसर्जन के लिये बाबाघाट, करहिया मण्डी, बोदाबाग पुल घाट, बिछिया घाट, अजगरहा पुल घाट, राजघाट उपरहटी, निपनिया पुल घाट, पुष्पराज नगर घाट, छोटी पुल घाट, ईदगाह घोघर तथा लक्ष्मणबाग घाट निर्धारित किये गये हैं। इन स्थानों पर प्रशासनिक अधिकारी एवं सुरक्षा बल तैनात रहेंगे। इनमें प्रकाश और सुरक्षा की उचित व्यवस्था की गई है। केवल निर्धारित स्थलों पर ही मूर्ति विसर्जन की अनुमति रहेगी। बीहर नदी के किटवरिया घाट में शाम में अधेरा होने से पूर्व तक ही मूर्ति विसर्जन की अनुमति होगी। रीवा शहर में 15 अक्टूबर को रावण दहन कार्यक्रम किला परिसर में बांधवगढ़ पब्लिक स्कूल के मैदान में किया जायेगा। 



पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने आम नागरिकों से मूर्ति विसर्जन के समय सुरक्षा प्रबंधों का ध्यान रखने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि मूर्ति विसर्जन के लिये घाट में सीमित संख्या में लोग आयें। मूर्ति विसर्जन करने वाले दल में बच्चों को शामिल न करें। प्रशासन द्वारा बनायी गई व्यवस्था के अनुसार ही प्रतिमाओं का विसर्जन करें।

 प्रतिमाओं के विसर्जन तथा दशहरा पर्व के कारण शहर की यातायात व्यवस्था में कुछ परिवर्तन किये गये हैं। इनका पालन करते हुए वाहन का उपयोग करें। शहर में 15 अक्टूबर को प्रात: 8 बजे से व्यंकट तिराहे से बड़ी पुल की ओर केवल मूर्ति विसर्जन करने वाले वाहनों को जाने की अनुमति होगी। 

शेष वाहनों के लिये इस मार्ग में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। जय स्तंभ चौक से भी बड़ी पुल की ओर केवल मूर्ति विसर्जन करने वाले वाहन ही जायेंगे। शेष वाहन प्रतिबंधित ही रहेंगे। घोघर पुराना पोस्ट आफिस से बड़ी पुल की ओर केवल मूर्ति विसर्जन करने वाले वाहन जायेंगे। 

इसी तरह पुष्पराज नगर मोड़ से भी बड़ी पुल की ओर मूर्ति विसर्जन करने वाले वाहन ही जा सकेंगे। रीवा नगर में 15 अक्टूबर की रात एवं 16 अक्टूबर को संपूर्ण दिवस में शहर में भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। प्रतिबंधित मार्गों के स्थान पर आवागमन के लिये परिवर्तित मार्गों का उपयोग करें।

Powered by Blogger.