SATNA : IPL में सट्टा लगवाने वाले गिरोह का खुलासा : खुद को ठेकेदार बता लग्जरी गाड़ियों में घूमते थे, 24 अलग-अलग बैंकों के ATM समेत 45 लाख का माल जप्त

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें


सतना पुलिस ने आईपीएल का सट्टा लगवाने वाले एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है, जो खुद को रईसजादे बताते थे। गिरफ्त में आए पांच सटोरिए खुद को ठेकेदार बताते थे और लग्जरी गाड़ियों से घूमा करते थे। इनके पास से पुलिस ने तीन लाख की नकदी और तीन लग्जरी कार सहित 10 मोबाइल और 24 अलग-अलग बैंकों के एटीएम और क्रेडिट कार्ड समेत करीब 45 लाख का माल जब्त किया है।

एसपी धर्मवीर सिंह ने बताया कि देर रात कोतवाली पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पांचों आरोपियों में से तीन छतरपुर और दो पन्ना जिले के रहने वाले हैं। दो महीने से वे सतना के भरहुत नगर स्थित एसआरबीएच टावर के बगल में किराए से मकान लेकर रह रहे थे। इन्होंने खुद को ठेकेदार बताया था, लेकिन गतिविधियां ठीक नहीं थीं। संदेह होने पर पुलिस ने नजर रखी। पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि यह एक सर्वर में होस्ट है, जिसकी यह फ्रेंचाइजी लेकर काम कर रहे थे। इन्होंने अपने नीचे असिस्टेंट बना रखे थे, जिनके माध्यम से लोगों को लॉग इन पाॅसवर्ड देकर आईपीएल सट्टे की गतिविधियां संचालित की जा रही थी। इनके पास से 3 लाख नकदी, मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड, क्रेडिट कार्ड के अलावा बिना नंबर की तीन लग्जरी कार मिली है। एसपी धर्मवीर सिंह ने बताया कि इस पूरे मामले में मास्टर एजेंसी के अलावा कौन-कौन संलिप्त है, इसकी जांच की जा रही है। आरोपियों को न्यायालय पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा।

ये आरोपी पकड़े

हिमांशु जैन पुत्र विनय कुमार जैन (35) निवासी देवेंद्र नगर सलेहा रोड पन्ना।
कामेश गुप्ता पुत्र राजेश गुप्ता (26) निवासी इंद्रपुरी कॉलोनी पन्ना।
राहुल शुक्ल पुत्र जागेश्वर प्रसाद शुक्ला (26) निवासी विष्णु विहार कॉलोनी छतरपुर।
रोहित शर्मा पुत्र मातादीन शर्मा (34) निवासी सरस्वती स्कूल के पीछे छतरपुर।
सुरेंद्र सिंह पिता महेंद्र सिंह (35) निवासी सन सिटी गेट के पास छतरपुर।
Powered by Blogger.