REWA : ​एक दर्जन दावेदार को मात देकर मंजुल बने प्रदेशाध्यक्ष : 4 साल पहले TRS कॉलेज से सीखा था राजनीति का दाव, छात्र संघ प्रभारी से लेकर प्रदेशाध्यक्ष तक का ऐसा रहा सफर

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने शनिवार को मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के नए एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा की। जहां रीवा के मंजुल त्रिपाठी को नई जिम्मेदारी दी गई है। उनको रीवा जिले के एनएसयूआई अध्यक्ष से प्रमोट करते हुए मध्यप्रदेश का नया अध्यक्ष नियुक्त किया है। जबकि छत्तीसगढ़ में नीरज पाण्डेय को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है।

मीडिया से हुए रूबरू 

रीवा मीडिया से बातचीत में मंजुल त्रिपाठी ने बताया कि NSUI के छात्र संघ प्रभारी से लेकर प्रदेशाध्यक्ष तक सफर किया। 4 साल पहले विंध्य के अग्रणी महाविद्यालय टीआरएस कॉलेज से राजनीति का ककहरा सीखा। साथ ही प्रदेश नेतृत्व द्वारा दी गई जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए आज यहां तक पहुंचा हूं। इसके लिए जिले के पदाधिकारी से लेकर प्रदेश नेतृत्व का धन्यवाद ज्ञापित करता हूं।

सतना जिले के रामपुर बाघेलान क्षेत्र के बीदा गांव में सन 1995 को मंजुल त्रिपाठी का जन्म हुआ है। वे टीआरएस कॉलेज में बीकाम की पढ़ाई कर समाजशास्त्र से एमए और एमफिल किया। इस दौरान 2017 में एनएसयूआई छात्र संघ चुनाव प्रभारी, 2018 में प्रदेश सचिव, 2021 में एनएसयूआई जिला अध्यक्ष और 2 अक्टूबर 2021 को एनएसयूआई का प्रदेश अध्यक्ष बनकर सबको चौंका दिया है। उनकी नियुक्त के लिए जिला कांग्रेस कमेटी शहर अध्यक्ष गुरमीत सिंह मंकू का योगदान बताया जा रहा है।

एक दर्जन दावेदारों को मंजुल ने दी मात : ये थे शामिल 

एनएसयूआई सूत्रों की मानें तो मंजुल त्रिपाठी के प्रदेश अध्यक्ष बनने की राह आसान नहीं थी। विपिन वानखेड़े के बाद करीब एक दर्जन दावेदार मैदान में थे। ऐसे में पार्टी आला कमान ने सभी नेताओं से वन टू वन चर्चा की। दावेदारों में आशुतोष चौकसे भोपाल, कोविद ठाकुर मंडला, सचिन द्विवेदी ग्वालियर, शिवराज सिंह यादव ग्वालियर, आकाश शर्मा मुरैना, प्रितेश शर्मा उज्जैन, अमित पटेल इंदौर, यशवीर सिंह गोयल देवास, मंजुल त्रिपाठी रीवा, दिव्यांशु मिश्रा कटनी, करण समतेश्वर जबलपुर और विजय रजक जबलपुर आदि रेस में शामिल थे।

Powered by Blogger.