cruise drugs case : आर्यन खान की जमानत अर्जी को एक बार फिर कोर्ट ने किया खारिज : जमानत मिली तो देश से हो सकते हैं फरार, इंटरनेशनल ड्रग रैकेट से जुड़े हैं खान के तार

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत अर्जी को एक बार फिर कोर्ट ने खारिज कर दिया है। बुधवार दोपहर लंच के बाद 2.45 बजे जैसे ही अदालत बैठी, जस्टिस वीवी पाटिल ने NCB की दलीलों को सही मानते हुए आर्यन की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया। हालांकि अदालत ने ऑर्डर का सिर्फ ऑपरेटिव हिस्सा ही सुनाया।

NCB की तरफ से एडिशनल सॉलिसिटर जनरल (ASG) अनिल सिंह इस मामले को देख रहे हैं। माना जा रहा है कि 13 और 14 अक्टूबर को NCB की मजबूत दलीलें आर्यन के वकीलों पर भारी पड़ीं। हालांकि डिटेल जजमेंट शाम तक आने की उम्मीद है। इसके बाद ही यह पूरी तरह साफ हो पाएगा कि आर्यन की जमानत रिजेक्ट करने के पीछे अदालत की क्या दलील थी।

आर्यन पर भारी पड़ीं ASG की 10 दलीलें

आर्यन काफी प्रभावशाली हैं और जमानत पर रिहा होने पर सबूतों के साथ छेड़छाड़ करने या उनके देश से भागने की आशंका है। NCB के वकील अद्वैत सेठना ने कहा था कि इसी तरह का मामला अभिनेता अरमान कोहली का था और उसे भी जांच पूरी होने तक जमानत नहीं दी गई थी।

आर्यन के पास से भले ही ड्रग्स नहीं मिली है, लेकिन उनके साथ गिरफ्तार हुए अरबाज मर्चेंट के पास से ड्रग्स मिली है। अगर शिप वहां से निकल जाता तो पार्टी शुरू हो जाती और ये सभी आरोपी ड्रग्स लेते।

आर्यन ने पहली बार नशीली दवाओं का सेवन नहीं किया, वो पहले भी ड्रग्स लेते रहे हैं। हमारे पास इनके पहले भी ड्रग्स लेने के पर्याप्त सबूत हैं।

अदालत में आर्यन के वॉट्सऐप चैट दिखाए गए। NCB के वकील ने दावा किया कि रिकॉर्ड से संकेत मिलता है कि आर्यन कई ऐसे ड्रग पैडलर के संपर्क में थे, जिसके तार अंतरराष्ट्रीय ड्रग तस्कर से जुड़े हुए थे।

आर्यन पर जो धाराएं (NDPS एक्ट की धारा 28 और 29) लगाई गई हैं, वो गैर जमानती हैं। ऐसे में आर्यन को जमानत देना सही निर्णय नहीं होगा।

आर्यन के मामले को रिया और शौविक के ड्रग्स केस जैसा बताया गया। ASG ने कहा था कि हमेशा ड्रग्स की मात्रा ही मायने नहीं रखती, क्योंकि रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के पास से भी ड्रग्स नहीं मिला था। शौविक को भी चार्जशीट दायर करने से पहले तक जमानत नहीं दी गई थी।

जमानत का विरोध करते हुए ASG ने इस केस से मिलते-जुलते 13 जजमेंट पढ़े थे। विभिन्न हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के इन जजमेंट को भी आर्यन के केस जैसा बताया गया। इनमें से ज्यादातर में आरोपियों के पास से ड्रग्स की बरामदगी नहीं हुई थी।

ASG अनिल सिंह ने कहा था, 'हम इस मामले में पूरे चेन और कनेक्शन पर नजर बनाए रखे हुए हैं। अब भी मामला शुरुआती जांच की स्टेज पर है और आगे जाकर और भी चीजें सामने आएगी।

यह नहीं कहा जा सकता है कि आर्यन को केवल 1 साल की सजा हो सकती है। अगर दूसरे आरोपियों से उनके तार जुड़ते हैं, तो जो सजा दूसरों को होगी, वही सजा इन पर भी लागू की जा सकती है। ASG ने कहा, इस मामले में 15 से 20 लोग जुड़े हैं और इसमें कॉन्स्पिरेसी की बात सामने आ रही है, साथ ही कॉमर्शियल क्वांटिटी की बात भी सामने आई है। इसलिए सेक्शन 29 लगाया जाता है। जैसे-जैसे मामला आगे बढ़ा और जानकारी मिली, उसके अनुसार हम चार्जेज और सेक्शन लगा सकते है।

NCB के वकील अनिल सिंह ने कहा कि आरोपियों के युवा होने की दलील से इनकार करता हूं। मैं आर्यन के वकील अमित देसाई के इस तर्क से सहमत नहीं हूं कि ये छोटे बच्चे हैं और इसलिए जमानत पर विचार किया जाना चाहिए। यह हमारी भावी पीढ़ी है। पूरा देश उन पर निर्भर होगा। महात्मा गांधी की भूमि में हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने इसकी कल्पना नहीं की थी।

Powered by Blogger.