NAVRATRI RULES : नवरात्रि में भूलकर भी न करें ये काम, अगर इन नियमों को नजर अंदाज किया तो : आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ नियमों के बारे में...

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

        

अश्विन मास (Ashwin Month) के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि से नवरात्रि (Navratri) की शुरुआत होती है. 6 अक्टूबर को अमावस्या (6 Oct Amavasya) के दिन पितृपक्ष (Pitru Paksha) का समापन होगा और अगले ही दिन 7 अक्टूबर से नवरात्रि आरंभ हो जाएंगे. नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्रि का समापन 15 अक्टूबर को विजय दशमी (Vijay Dashmi) के दिन होता है. सालभर में पड़ने वाले 4 नवरात्रि में से अश्विन मास के नवरात्रि सबसे खास होते हैं. इन नौ दिन में मां दूर्गा की अराधना (Maa Durga Puja) की जाती है. नवरात्रि के नौ दिन तक मां के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है.  मां का आशीर्वाद और कृपा पाने के लिए मां के भक्त नौ दिन तक व्रत रखते हैं और उनकी उपासना करते हैं. लेकिन इस दौरान कुछ नियमों का पालन करना जरूरी होता है. अगर इन नियमों को नजरअंदाज किया जाए, तो देवी जी रुष्ट हो जाती हैं. 

नवरात्रि में भूलकर भी न करें ये काम  

. मान्यता है कि लोग नवरात्रि का व्रत रखें या न रखें लेकिन नवरात्रि के दिनों में उन्हें लहसुन, प्याज, नॉनवेज, शराब आदि का सेवन करने की मनाही होती है. अगर घर में घट स्थापना की गई है, तो इस नियम को बिल्कुल भी अनदेखा नहीं करना चाहिए. अगर भूलकर भी अनदेखा कर दिया जाए, तो घर में बहुत बड़ा सकंट आ सकता है. 

. कहते हैं अगर नवरात्रि में किसी घर में अखंड ज्योति जलाई गई हो, तो ज्योति को घर में कभी भी अकेला नहीं छोड़ना चाहिए. घर में किसी एक व्यक्ति को जरूर रुकना चाहिए. घटस्थापना और अखंड ज्योति वाले घर को कभी खाली नहीं छोड़ना चाहिए. 


. देवी मां की पूजा करते समय काले कपड़े पहनने से बचें. साथ ही अगर आपने व्रत रखा है तो ब्राह्मचर्य व्रत का पालन अवश्य करें.

. नवरात्रि के व्रतों के दौरान बास, नाखून न काटें, न ही शेविंग करें. पारण करने के अगले दिन ही ये काम किए जा सकते हैं. 

ये  लोग न रखें व्रत

धर्म शास्त्रों में बताया गया है कि नवरात्रि के व्रत किन लोगों को रखने की मनाही होती है. कहते हैं कि अगर किसी घर में किसी व्यक्ति की मृत्यु हुई हो तो उन्हें 13 दिन तक पूजा-पाठ करने की मनाही होती है. ऐसे में अगर नवरात्रि बीच में आते हैं तो उन्हें नवरात्रि के व्रत नहीं रखने चाहिए. 

गर्भवती महिलाओं को भी व्रत न रखने की मनाही होती है. इसलिए गर्भवती महिलाएं सिर्फ पूजा कर सकती हैं लेकिन व्रत रखना मना होता है. 

बीमार व्यक्ति, डायबिटीज के मीरज आदि लोगों को भी व्रत नहीं रखने चाहिए. अगर वे व्रत रखना भी चाहते हैं तो उन्हें अपने डॉक्टर से एक बार परामर्श अवश्य कर लेना चाहिए. 

Powered by Blogger.