MP : कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधा : एक के बाद एक 10 ट्वीट, जनता को मंहगाई से राहत चाहिए, तो BJP को आगामी चुनावों में भी सबक सिखाना होगा

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल के दामों में कमी करने पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने ट्विटर हैंडल से एक के बाद एक 10 ट्वीट किए हैं। इसमें लिखा है कि 13 राज्यों की 3 लोकसभा और 29 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के नतीजों के अगले दिन केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल पर 5 और डीजल पर 10 रुपए की एक्साइज डयूटी में कमी, दीपावली का तोहफा नहीं होकर, जनता द्वारा इन उपचुनावों में देश भर में भाजपा को दिए गए सबक का परिणाम है।


उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि अभी जनता को मंहगाई से और राहत चाहिए, तो भाजपा को आगामी चुनावों में भी सबक सिखाना होगा। अभी रसोई गैस के दामों में भी कमी के निर्णय की आवश्यकता है, क्योंकि उसके दाम भी आसमान छू रहे हैं।

कमलनाथ ने शिवराज सरकार के द्वारा पेट्रोल और डीजल पर की गई कमी को लेकर सवाल उठाते हुए यह भी ट्वीट किया कि बात करें, तो मप्र में देश में सबसे ज्यादा पेट्रोल पर 33 प्रतिशत वैट, 4.50 रुपए प्रति लीटर का अतिरिक्त कर, 1 प्रतिशत सेस लगता है। वहीं, डीजल पर 22 प्रतिशत वैट, 3 रूपए व 1 प्रतिशत सेस लगता है।

उन्होंने अगले ट्वीट में उपचुनाव के परिणामों का जिक्र करते हुए लिखा कि मप्र में इन उपचुनावों मेें जनता ने भाजपा को सबक तो सिखाया है, लेकिन थोड़ा कम। यदि यहां भी भाजपा को जनता अच्छा सबक सिखा देती, तो प्रदेश में भी जनता को मंहगाई में राहत वाले निर्णय देखने को मिलते। नाथ ने अगले ट्वीट में लिखा कि यदि देश और प्रदेश में किसानों को न्याय चाहिए, युवाओं को रोजगार चाहिए, महिलाओं को सम्मान व सुरक्षा चाहिए, जनता को मंहगाई से राहत चाहिए तो जनता को भाजपा को अगले चुनावों में और कड़ा सबक सिखाना होगा, तभी जनता को राहत व न्याय मिल पाएगा।


पूर्व सीएम के इस ताबड़तोड़ ट्वीट के बाद कहा जा सकता है कि मंहगाई के मुददे पर कमलनाथ सरकार को घेरने के मूड में नजर आ रहे हैं। वहीं, उपचुनाव में मिली हार के बाद वह पहली बार सरकार पर इस तरह से आक्रामक होते नजर आए।

Powered by Blogger.