MP में फिर से शादी समारोह शुरू : 15 नवंबर से 14 जुलाई 2021 तक है शादी का मुहूर्त, युवक-युवतियां बैंड की धुन पर जोश में ठुमके लगाते नजर आये

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

इंदौर/मध्यप्रदेश. आज मेरे यार की शादी है...बहारों फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है...ये गाने एक बार फिर गूंज उठे हैं। डेढ़ साल से कोरोना के कारण बैंड-बाजा और बारात पर प्रतिबंध लगा था, जो देवउठनी ग्यारस से फिर से शुरू हो गए हैं। सड़कों पर जब बारात निकलीं, तो बाराती भी झूमकर नाचे। किसी ने जमकर नोट उड़ाए तो युवक-युवतियां रजवाड़ी, मटकी, भांगड़ा, गरबा जैसी ढोलक और बैंड की धुन पर जोश में ठुमके लगाते नजर आए।

बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक, दूल्हे के रिश्तेदारों से लेकर दोस्तों तक सभी ने बारात में जोश और उत्साह के साथ डांस किया। इंदौर में दूल्हा बोला- इस दिन का डेढ़ साल से इंतजार कर रहा था। आपको भी बताते हैं कि प्रदेशभर में बारातों का माहौल कैसे चरम पर रहा और लोगों ने कैसे इस समारोह का आनंद लिया।

देवउठनी ग्यारस के साथ ही एक बार फिर प्रदेशभर में विवाह समारोह की धूम दिखने लगी है। सड़कों पर लाव लश्कर के साथ बारातें निकलने लगीं, जिसका अलग ही उत्साह होता है। कोरोना काल में जहां शादी-बारातों की मस्ती फीकी पड़ गई थी। वहीं, अब कोरोना कंट्रोल में होने से शादी-बारात का माहौल फिर चरम पर पहुंच गया है।

कुछ माह पहले ही लोगों ने शादी-बारात के लिए प्रदेशभर में होटल, मैरिज गार्डन, कैटरर्स, पंडित, बैंड-बाजे, ढ़ोलक, घोड़ी, बग्घी बुक कर लिए। शादी में 300 मेहमानों के शादी में शामिल होने के शासन के निर्णय ने शादी-बारात के उत्साह को कई गुना बढ़ा दिया है।

बारात में फिर गूंजे-बहारों फूल बरसाओ, मेरा मेहबूब आया है...

कोरोना के बाद पाबंदी कम होते ही बैंड-बाजे वालों में भी अलग ही उत्साह दिखा। बैंड की गाड़ियां, अपनी अलग पहचान बताने वाली ड्रेस में बैंड वाले अपने अलग-अलग वाद्य यंत्रों को पूरे जोश से बजाते दिखे। दो साल पहले की ही तरह बारातों में फिर पुराने गीतों की बहार नजर आई।

बहारो फूल बरसाओ, मेरा मेहबूब आया है...से लेकर छोटे-छोटे भाइयों के बड़े भइया...ये देश है वीर जवानों का...गीतों की गूंज सहित नागिन धुन ने बारात के माहौल को कई गुना बढ़ा दिया। बच्चों ने भी अपनी फरमाइशों के गाने बैंड वालों से बजवाए और उन पर जमकर डांस किया। रात में निकली बारातों में विशेष रूप से लाइटिंग की व्यवस्था की, जो बारात को और आकर्षक बनाने के साथ ही अलग ही रौनक दे रहे थे।

दो साल तक किया इंतजार, धूमधाम से निकाली बारात

इंदौर में देवउठनी ग्यारस पर सड़कों पर बारातों में अलग ही जोश और उत्साह देखने को मिला। सिमरोल (पठान पिपलिया) के पटेल परिवार की बारात इंदौर में पूरे जोश के साथ निकली। दूल्हे रीतेश पटेल की शादी तो वैसे दो साल पहले ही तय हो गई थी। मगर पहले और दूसरे लॉकडाउन के चलते उनकी शादी आगे बढ़ गई। रीतेश के मुताबिक बारात पूरे उत्साह से बैंड-बाजे, ढ़ोलक के साथ निकालना थी। इसलिए दो साल इंतजार किया और पाबंदी कम होते ही देवउठनी ग्यारस पर शादी की।

मुरैना में कंसाना परिवार की शादी में भी उत्साह दिखा

मुरैना के भाजपा के पूर्व विधायक रघुराज कंसाना की भतीजी जान्हवी की शादी देवउठनी ग्यारस पर हुई। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री के यहां से दूल्हे मनीष की बारात मुरैना आई। इस शादी समारोह में भी जबरदस्त उत्साह नजर आया। आकर्षक सजावट की गई बग्घी में सवार होकर दूल्हा बारात लेकर यहां पहुंचे। बारात में दू्ल्हे के दोस्तों, रिश्तेदारों और बड़े-बुजुर्ग एक जैसे साफे में नजर आए और बारात में बैंड-बाजे और ढ़ोलक पर जमकर डांस किया और खूब नोट उड़ाए। फूलों की बारिश कर दूल्हे राजा का स्वागत किया। शादी में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बेटे रामू तोमर और मुरैना, ग्वालियर, भिंड तथा धौलपुर के भाजपा नेताओं से लेकर कई प्रशासनिक अधिकारी भी यहां मौजूद रहे।

ग्वालियर में निकली बारात में हुआ डांस

ग्वालियर में भी देवउठनी ग्यारस पर शादी-बारातों का माहौल नजर आया। शहर के कई गार्डन और होटल शादी समारोह की रौनक से सजे-धजे नजर आए। वहीं सड़कों पर भी बारातों का जोश देखते ही बना। ग्वालियर में कोरोना का एक भी एक्टिव केस नहीं होने से यहां शादी-बारात की रौनक ओर बढ़ गई है। यहां निकली एक बारात में भी बारातियों ने जमकर डांस किया। आकर्षक लाइटिंग की बीज बाराती ने अपनी पसंद के गानों पर थिरकते नजर आए। बच्चों से लेकर बड़े तक बारात के उत्साह में उत्साहित दिखे।

भिंड और उज्जैन में भी माहौल

देवउठनी ग्यारस पर भिंड और उज्जैन में भी बारात और शादी का जोरदार माहौल देखने को मिला। यहां भी बारात को लेकर लोगों में अलग ही जोश नजर आया। बैंड-बाजों और ढ़ोकल की धुन पर डांस करते नजर आए। नाते-रिश्तेदार, यार-दोस्त सभी बारात और शादी समारोह के इस माहौल में जमकर थिरके। भिंड में लोगों का कहना है कि पहले कोरोना काल में लोग शादियों में जाने से डर रहे थे, लेकिन अब कोरोना संक्रमण कम हो गया है। अब वापस शादी-बारात की रौनक लौटने लगी है।

पहली बार 300 मेहमानों की छूट

देवउठनी ग्यारस पर होने वाले शादी समारोह को लेकर मध्यप्रदेश सरकार ने शादी समारोह करने वालों को राहत दी है। सरकार ने कोरोना काल के डेढ़ साल में बाराती और घराती की संख्या में छूट दी है। अब 300 मेहमानों के साथ शादी समारोह किया जा सकता है। हालांकि शादी और बारात के लिए संबंधित एसडीएम से परमिशन लेना जरुरी है। वहीं इंदौर में कलेक्टर मनीष सिंह ने स्पष्ट कहा है कि अगर गाइड लाइन का कोई उल्लंघन करता है तो गार्डन संचालकों और कैटरर्स पर एफआईआर दर्ज की जाएगी।

Powered by Blogger.