REWA : दिवाली पर्व पर रीवा शहर लाइटों से हुआ गुलजार : मुख्य बाजारों में खरीदारों की उमड़ी भीड़, जमकर बिकी लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

दिवाली पर्व के एक दिन पहले रीवा शहर के मुख्य बाजारों में खरीदारों की भीड़ उमड़ पड़ी। रोशनी का त्योहार कहे जाने वाले दीपावली का चहुंओर प्रकाश फैलाने के लिए ग्राहक कोई कोर कसर नहीं छोड़े है। त्योहार को लेकर विंध्य क्षेत्र के मुख्य बाजारों में पांच दिवसीय मेला लगता है। मेले की शुरूआत धनतेरस से होती है। जबकि समापन भैया दूज से होता है।

पहले दिन धनतेरस के दिन जहां लोग स्वर्ण आभूषण से लेकर चांदी का सिक्का व वर्तन सहित झाडू आदि खरीदते है। वहीं दूसरे दिन रूपचौदस को लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति सहित पूजन सामग्री घर ले जाने की प्रथा है। जबकि अमावस्या को दोपहर तक बच्चे पटाखे व शाम को घर के बड़े व बुजूर्ग लक्ष्मी-गणेश की पूजा कर दीपदान करते आ रहे है।

बता दें कि बुधवार को कोठी कंपाडर क्षेत्र में खरीदारी को लेकर भीड़ उमड़ पड़ी। ज्यादातर लोगों ने लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियां खरीदी। पूजन सामग्रियां भी खूब बिकी। इस मौके पर कई ग्राहकों ने पूजा के लिए फल और फूल खरीदे। वहीं माडल स्कूल मैदान में जमकर पटाखे भी बिक।

दिवाली की मान्यता

पुजारी टोनी महराज की मानें तो दीपावली विशेष रूप से मां लक्ष्मी के पूजन का पर्व है। जिन्हें धन, वैभव, ऐश्वर्य और सुख-समृद्धि की देवी माना जाता है। इस दिन मां लक्ष्मी के स्वागत के लिए दीप जलाए जाते हैं। वहीं दूसरी मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान राम लंका विजय कर सीता और भाई लक्ष्मण के साथ 14 वर्षों का वनवास समाप्त कर घर लौटे थे। श्रीराम के स्वागत में अयोध्या में घर-घर दीप जलाए गए थे। तभी से दीपावली के दिन दीप जलाने की परंपरा है।

कोठी कंपाडर क्षेत्र में सजा मूर्तियों का बाजार

जिला प्रशासन के निर्देश में लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति सहित पूजन सामग्री का फुटपाथी बाजार कोठी कंपाडर क्षेत्र में लगा है। वहीं कई दुकानें शिल्पी प्लाजा के ए ब्लॉक और बी ब्लॉक तक फैली है। साथ ही कई दुकानें फोर्ट रोड और सिरमौर चौराहे में भी सजाई गई है। बुधवार की दोपहर से इन क्षेत्रों में खरीददारों की भीड़ उमड़ने लगी थी। शाम तक तो बाजार में चलना मुश्किल हो गया था।

मॉडल स्कूल में लगा पटाखों का बाजार

दिवाली पर्व के मददेनजर नगर निगम द्वारा पटाखों का बाजार मॉडल स्कूल के मैदान पर लगवाया गया है। इस बार पटाखों के बाजार में व्यापारी को फुलझड़ी, अनार और कम आवाज वाले पटाखे विक्रय व फोड़ने की ​इजाजत दी है। साथ ही ऐसे पटाखे जिनके निर्माण में बेरियम साल्ट्स का उपयोग किया गया हो। वे पटाखे पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगे। साथ ही जिनमे एंटीमनी, लिथियम, मरकरी, आर्सेनिक, स्ट्रान्सियम क्रोमेट एवं लेड के तत्वों का उपयोग हो रहा हो तो उनका उपयोग प्रतिबंधित है।

शहर की मुख्य सड़कों के फुटपाथ में सजा दीये का बाजार

कलेक्टर इलैयाराजा टी के​ निर्देश के बाद बैठकी व वसूली में कुम्हारों को छूट दी गई है। ऐस में शहर की मुख्य सड़कों के फुटपाथ में दीये का बाजार सजाया गया है। कोठी कंपाडर क्षेत्र, शिल्पी प्लाजा ए ब्लॉक और बी ब्लॉक, फोर्ट रोड, सिरमौर चौराहा, अस्पताल चौक, ढेकहा, पटरा, जयस्तंभ, घोड़ा चौराहा, अ​महिया, विश्वविद्यालय रोड़, मॉडल रोड, रतहरा रोड, समान बाजार, गुढ़ रोड़ आदि जगहों पर आसानी से दीये मिल रहे है।

Powered by Blogger.