पढ़िए आज MP में कहा क्या हुआ : सीहोर में बस स्टैंड के पास सेक्स रैकेट का खुलासा, 10 हजार के इनामी बदमाश की पीट-पीटकर हत्या

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

ग्वालियर के गिजोर्रा स्थित धर्मपुरा गांव में 10 हजार के इनामी बदमाश और अन्य व्यक्ति को गांव के लोगों ने पीट-पीटकर मार डाला है। मृतक की पहचान लाखन गडरिया के रूप में होना बता रहे हैं। दूसरा युवक राजपाल बघेल है। वह दिनारा गांव का रहने वाला है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस गिजोर्रा पहुंच गई है। घटना स्थल शहर से करीब 65 किलोमीटर दूर है धर्मपुर गांव। इस मामले में ग्वालियर एसपी अमित सांघी का कहना है कि गांव में इनामी बदमाश का शव पड़ा मिला है।

सीहोर में बस स्टैंड के पास सेक्स रैकेट पकड़ा

सीहोर में बस स्टैंड के पास एक मकान में सेक्स रैकेट पकड़ा गया है। पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। अधिकांश लड़कियां भोपाल से हैं। रैकेट खुद को शिवसेना नेता और समाज सेविका बताने वाली अनुपमा तिवारी के घर चल रहा था।

रतलाम में बाप-बेटों की हत्या

रतलाम में सैलाना के देवरुन्दा गांव में कुएं से पिता और दो पुत्रों के शव मिले हैं। आशंका हत्या की है। लक्ष्मण भाभर और उसके दो बच्चों के शव मिले हैं। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी और सैलाना थाना पुलिस मौके पर है। 

जबलपुर में प्लाटून कमांडर के बेटे की चाकू से गोदकर हत्या

जबलपुर में छठी बटालियन एसएएफ में पदस्थ प्लाटून कमांडर के बेटे की 4 युवकों ने चाकू से गोदकर सरेराह हत्या कर दी। रात करीब 10:30 से 11 बजे के बीच एसएएफ पेट्रोल पंप के सामने वारदात को अंजाम देकर चारों हमलावर भाग गए।

रांझी पुलिस ने बताया कि प्लाटून कमांडर नारायण बहादुर थापा का बेटा 30 वर्षीय रोहित थापा रविवार रात में अपने घर से गांधी व्यायाम शाला जाने के लिए निकला था। एसएएफ पेट्रोल पंप के सामने उसे संजय थापा, अभिषेक बहादुर, मनीष एवं सोनू शराब के नशे में मिले और गाली गलौज करने लगे। रोहित ने विरोध किया तो चारों ने उस पर चाकू से वार किए। किसी ने रोहित के भाई सुमित थापा को फोन करके रोहित पर हमले की जानकारी दी। इसके बाद सुमित मौके पर पहुंचा और अपने दोस्तों की मदद से गंभीर रूप से घायल रोहित को उपचार के लिए अस्पताल ले गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

मुरैना जिला अस्पताल में एंबुलेंस के नीचे मिली नवजात बच्ची हार गई जिंदगी की जंग

मुरैना जिला अस्पताल में एंबुलेंस के नीचे मिली नवजात बच्ची ने 24 घंटे के अंदर ही जिंदगी की जंग हार गई। रविवार की सुबह अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मचारी को वह एंबुलेंस के नीचे मिली थी और उसके शरीर पर चीटिंयां लग गई थीं। बच्ची को बचाने डॉक्टरों ने काफी प्रयास किया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। पुलिस ने CCTV फुटेज भी देखे, लेकिन कोई भी बच्ची को एंबुलेंस के नीचे रखने वाला नहीं दिखा। 

Powered by Blogger.