MP : दर्दनाक घटना : पटाखे फोड़ता रहा स्टॉप उधर दर्द से गर्भवती की हो गई मौत, जांच कराई तो खौफनाक सच्चाई आई सामने

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

सागर. मध्यप्रदेश के सागर जिले में एक दर्दनाक घटना हुई है. सागर के बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज बीएमसी में एक प्रसूता की मौत हो गई. इस मामले में प्रबंधन ने जांच कराई तो खौफनाक सच्चाई सामने आई. जांच दल व वायरल वीडियो के आधार पर यह बात उजागर हुई कि प्रसूता की मौत स्टाफ की लापरवाही से हुई. अब इस मामले में कार्रवाई की गई है.

स्टाफ मना रहा था दिवाली...

मामले में एक प्रोफेसर को नोटिस दिया गया है जबकि नर्स को निलंबित कर दिया गया है. इसी के साथ 5 डॉक्टरों की ट्रेनिंग पर रोक लगाई गई है. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में दिवाली की रात यह घटना हुई. यहां के लेबर वार्ड में पटाखे, फुलझड़ी जलाने और प्रसूता की मौत के मामले में बीएमसी प्रबंधन ने बड़ी कार्रवाई की है.

जांच दल की रिपोर्ट के बाद पटाखे जलाने में शामिल स्टाफ नर्स को निलंबित किया गया है। एक पीजी डॉक्टर सहित चार इंटर्न डॉक्टरों को चेतावनी भरा पत्र जारी किया है। साथ ही इनकी ट्रेनिंग पर रोक लगा दी गई है। इन सभी को गायनी विभाग से हटाकर इनके विभाग प्रमुख के अधीन ड्यूटी करने के निर्देश दिए हैं.

ये है मामला: लेबर रूम में भर्ती पूजा आठ्या (26) की मौत प्रसव के चार घंटे बाद हो गई थी। तब गायनी विभाग के स्टाफ का अंसवेदनशील रवैया सामने आया था, जब लेबर वार्ड में पटाखे और फुलझड़ी जलाई थी। दूसरी ओर प्रसूता को इंजेक्शन देने तक कोई नहीं आया था। आरोप है कि नर्सिंग स्टाफ ने आनन-फानन में 30 इंजेक्शन मंगवाए और दो ही लगे। इसके लगते ही पूजा को झटके आने लगे और उसने दम तोड़ दिया।

मीडिया प्रभारी डॉ. उमेश पटेल के अनुसार वायरल वीडियो में रामदेवी अहिरवार, पीजी डॉ. पलास गनवार, इटंर्न डॉक्टरों में डॉ. अफरीन, डॉ. तारुणी गुप्ता, डॉ. जयश्री, डॉ. मीना मैथ्यू आदि अनारदाने, फुलझड़ी जलाते हुए दिखाई दे रही थीं। नर्स अहिरवार को निलंबित किया है। अन्य डॉक्टरों को चेतावनी पत्र जारी कर इन्हें संबंधित विभाग से हटा दिया है।

जवाब तलब

प्रोफेसर डॉ. शिखा पांडेय से 3 दिन में जवाब मांगा है। बताया जाता है कि प्रसूता की मौत के बाद अधीक्षक कार्यालय में हुई बैठक में वे शामिल नहीं हुई थीं। फोन भी नहीं उठाया था। मामले में उन्होंने स्वत: संज्ञान भी नहीं लिया था।

गार्ड पर भी कार्रवाई

इधर, हाइट्स कंपनी के महिला गार्ड को हटाने के निर्देश दिए हैं। वीडियो व जांच रिपोर्ट के आधार पर प्रबंधन ने इसे अनुशासनहीनता माना और कार्रवाई की है।

Powered by Blogger.