शादियों का सीजन शुरू : शादी के लिए लहंगा खरीदने जा रही हैं तो 6 बड़ी गलतियां करने से बचें ...

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

त्योहारों का मौसम थमने के बाद अब शादियों का सीजन शुरू होने वाला है. शादी के वक्त दुल्हन के लिए शॉपिंग करना सबसे मुश्किल काम होता है. दुल्हन के लिबास में जरा सी खराबी उसके सबसे बड़े दिन को बिगाड़ सकती है. शादी से पहले ज्यादातर लड़कियों को ब्राइडल लहंगा खरीदने का अनुभव भी नहीं होता है. अगर आप भी बाजार से शादी के लिए लहंगा या वेडिंग ड्रेस खरीदने जा रही हैं तो 6 बड़ी गलतियां करने से बचें.

1. रिसर्च- अपना ड्रीम वेडिंग ड्रेस खरीदने के लिए अगर आप सीधे बाजार की तरफ रुख कर रहे हैं तो आपको पछताना पड़ सकता है. ब्राइडल ड्रेस खरीदने के लिए रिसर्च बहुत जरूरी है. इसलिए शॉपिंग स्टोर पर जाने से पहले इंटरनेट पर लंहगे या वेडिंग ड्रेस के लेटेस्ट डिजाइन खंगाल लें और उन्हें दिमाग में रखकर ही शॉपिंग के लिए 

2. स्किन टोन- शादी के लिए लहंगा या वेडिंग ड्रेस खरीदना बड़ा पेचीदा काम है. इसे खरीदते वक्त लोगों को अपने स्किन टोन का भी ख्याल रखना चाहिए. अलग-अलग स्किन टोन पर सभी तरह के रंग नहीं फबते हैं, इसलिए आपको बहुत सावधानी से यह काम करना चाहिए. स्किन टोन के हिसाब से खरीदी गई वेडिंग ड्रेस आपकी खूबसूरती में चार चांद लगा देगी.


3. कपड़ा- वेडिंग ड्रेस खरीदते वक्त कई बार लोग इसके मैटीरियल और फेब्रिक पर ध्यान ही नहीं देते हैं और अपनी इस गलती का पछतावा उन्हें शादी के दिन होता है. ब्राइडल ड्रेस सख्त कपड़े से बनी हो सकती है या उस पर भारी एम्ब्रॉयडरी भी लुक और कम्फर्ट जोन दोनों को बिगाड़ सकती है. इसलिए वेडिंग ड्रेस में सब समझ आने के बाद एक बार उसे ट्राई करने में कोई बुराई नहीं है.

4. मौसम- वेडिंग या रिसेप्शन के लिए ड्रेस खरीदते वक्त आपको मौसम का भी ध्यान रखना चाहिए. अगर आप सर्दी के दिनों में शादी करने जा रहे हैं तो डार्क शेड चुन सकते हैं, लेकिन गर्मियों में ऐसा करना समझदारी नहीं है. गर्मी के दिनों में आपको लाइट शेड के ड्रेस चुनने चाहिए. इसके अलावा आपको लोकेशन का भी ख्याल रखना चाहिए.

5. बॉडी की शेप- शादी के लिए ड्रीम ड्रेस चुनते वक्त कई बार लड़कियां अपनी बॉडी की शेप का ख्याल नहीं रखती हैं. मॉडल या डमी पर सजे लहंगे को देखकर उसे खरीदने की गलती ना करें. डमी और आपके बॉडी स्ट्रक्चर में जमीन-आसमान का अंतर हो सकता है. इसलिए वेडिंग ड्रेस को एक बार पहनकर जरूर देखें. अगर आपको जरा भी कमी नजर आ रही है तो तो फैशन डिजाइनर या स्टाइलिश से संपर्क करें.

6. अल्टरेशन- वेडिंग ड्रेस घर लाने के बाद उसे सीधे वार्डरॉब में रखने की बजाए अल्ट्रेशन के लिए भेज दें, ताकी डिजाइनर आपके फिगर के हिसाब से ड्रेस को फिट कर सके. परफेक्ट फिटिंग के बिना महंगे से महंगा ड्रेस भी अच्छा नहीं दिखता है

Powered by Blogger.