हत्याकांड का खुलासा : छोटे भाई ने शराब के नशे में पिता के साथ की थी मारपीट तो बड़े भाई ने शराब पिलाकर कर दी हत्या

पांढुर्णा की लांघा में हुए रूपेश खानवे हत्याकांड की गुत्थी पुलिस ने 9 दिन बाद सुलझा ली है। पुलिस के मुताबिक रूपेश खानवे की हत्या उसी के बड़े भाई ईश्वर खानवे ने अपने साले के साथ मिलकर की थी। चौकी प्रभारी जितेन्द्र यादव ने बताया कि लांघा गांव में रहने वाले रुपेश खानवे ने अपने पिता के साथ दीपावली के दौरान शराब के नशे में मारपीट की थी।

वही रूपेश ने अपनी भाभी से अभ्रदता की थी। परिजनों को मृतक अक्सर प्रताड़ित करते रहता था। इसकी हरकतों से परेशान होकर सगे भाई ने उसे अपने साले के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने मामले का खुलासा कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

18 नवंबर को मिली थी लाश

18 नवंबर को लांघा - नरखेड़ मार्ग पर करेंजी के पेड़ के पास गणेश देशमुख के खेत किनारे एक शव मिला था, जिसकी शिनाख्त बाद में लांघा निवासी 35 वर्षीय रुपेश पिता मोहन खानवे के रुप में हुई थी। पुलिस के अनुसार रुपेश एक दिन पूर्व 17 नवंबर को घर से निकला था और 18 नवंबर को उसका शव यहां मिला था।

पुलिस ने जांच शुरु की तो पता चला कि मृतक रुपेश आखिरी बार अपने बड़े भाई के साले बिछुआ नवलगांव निवासी 24 वर्षीय गोलू उर्फ तारेन्द्र पिता फूलचंद रैतवार के साथ देखा गया था। जिससे सख्ती से हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो सारा मामला सुलझ गया।

भाई ने पिलाई शराब, फिर कर दी हत्या

मृतक के बड़े भाई ईश्वर खानवे ने योजना बनाई और शराब पिलाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने इस मामले में मृतक के भाई ईश्वर पिता मोहन खानवे और गोलू उर्फ तारेन्द्र पिता फूलचंद रैतवार को गिरफ्तार कर न्यायालय में प्रस्तुत किया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया है।

Powered by Blogger.