REWA : व्यापारियों से छल : अधिकारियों को सेवा शुल्क नहीं देने पर प्रतिष्ठान का नाम खराब करने के लिए की थी छापामारी कार्यवाही, ऐसे हुआ खुलासा

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. सेंट्रल जीएसटी के अधिकारी को रिश्वत लेते पकड़े जाने के बाद आवास एवं कार्यालय में की गई छापामारी में इओडब्ल्यू को कई दस्तावेज मिले हैं। अनुमान है कि अधिकारी अन्य व्यवसाइयों से भी रिश्वत के लिए दबाव बना रहा था। कई फाइलें व्यापारियों की मिली हैं, जिन्हें जानबूझकर अधूरी कार्रवाई में छोड़ा गया है।

कई व्यापारियों ने भी कहा है कि अधिकारी निशांत सागर उन्हें भी जुर्माना लगाने की धमकी दे रहा था। इओडब्ल्यू अधिकारियों का कहना है जो भी दस्तावेज मिले हैं, उनकी जांच की जा रही है। सराफा कारोबारी सबसे ज्यादा परेशान थे। हाल मार्क के बनाए गए नए नियमों का हवाला देकर वह लगातार बड़ी रकम को जुर्माना लगाने की धमकियां देता रहा है। रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकडऩे की कार्रवाई भी ज्वेलर्स कारोबारी की शिकायत के बाद हुई है।

व्यापारियों का कहना है कि जब से जीएसटी लागू हुई है, सरकार के विभागों में पदस्थ अधिकारियों द्वारा लगातार अनाधिकृत रूप से उन पर दबाव बनाए जा रहे हैं। कई व्यापारियों का यह भी आरोप है कि जिन लोगों ने अधिकारियों को सेवा शुल्क नहीं दिया उनके प्रतिष्ठान का नाम खराब करने के लिए छापामारी भी की गई। बाद में पता चला कि सारे दस्तावेज दुरुस्त थे।

Powered by Blogger.