REWA : फॉरेस्ट गार्ड को 6 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा : लकड़ी चोरी का केस नहीं बनने के एवज में मांगे थे 25 हजार रुपए

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा लोकायुक्त ने फॉरेस्ट गार्ड को 6 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा है। गोविंदगढ़ वन चौकी में पदस्थ वनरक्षक लकड़ी चोरी का केस नहीं बनने के एवज में रकम मांग रहा था। पीड़ित ने लोकायुक्त एसपी से शिकायत कर दी। आवेदन का सत्यापन कराने पर शिकायत सही मिली। ऐसे में गुरुवार को फॉरेस्ट क्वार्टर से वनरक्षक को 6 हजार रुपए लेते दबोच लिया। आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई की गई। दो दिन पहले ही सचिव को 15 हजार की घूस लेते पकड़ा था।

लोकायुक्त की बड़ी कार्यवाही : फॉरेस्ट गार्ड रिश्वत लेते रंगेहाथ हुआ गिरफ्तार : फरियादी से ले रहा था छह हजार की रिश्वत

लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि गुरुवार दोपहर ढाई बजे फॉरेस्ट क्वार्टर में दबिश दी गई। आरोपी वनरक्षक आशीष यादव पुत्र जगदीश प्रसाद (32) गुझियारी टोला वार्ड नंबर 9 गोविंदगढ़ जिला रीवा को 6 हजार रुपए की रिश्वत लेते ट्रैप किया गया है। उसके खिलाफ शिकायतकर्ता राम विश्वास विश्वकर्मा निवासी ग्राम पोस्ट बंसा थाना गोविंदगढ़ ने शिकायत की थी।

आरोप था कि आशीष यादव गोविंदगढ़ वन चौकी में वनरक्षक है। वह लकड़ी चोरी का केस नहीं बनने के एवज में रुपए मांग रहा था। जब एसपी ने सत्यापन कराया तो शिकायत सही पाई गई। तब टीम गठित कर पीड़ित को फॉरेस्ट क्वार्टर रुपए लेकर भेजा गया। जैसे ही, आरोपी ​ने रिश्वत के पैसे जेब में डाले। वैसे ही, टीम ने रंगे हाथ पकड़ लिया।

चार दिन पहले लिए थे 4 हजार रुपए

पीड़ित की मानें तो शुरुआत में वनरक्षक 25 हजार रुपए मांगे थे। सौदा 10 हजार में तय हुआ था। बीते 21 नवंबर को वह 4 हजार रुपए ले चुका था। बाकी 6 हजार न देने पर वनरक्षक फर्नीचर की दुकान संचालित करने वाले बढ़ई को परेशान कर रहा था।

ये रहे कार्रवाई में शामिल

कार्रवाई डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार के नेतृत्व में निरीक्षक प्रमेंद्र कुमार द्वारा की गई है। इस दौरान निरीक्षक रंजित सिंह राजपूत, निरीक्षक राजेश कोहरिया प्रधान आरक्षक मुकेश मिश्रा, प्रधान आरक्षक सुरेश कुमार, आरक्षक सुजीत कुमार, पवन पांडेय, धर्मेंद्र जायसवाल सहित करीब 15 सदस्यीय दल कार्रवाई में शामिल रहा।

Powered by Blogger.