REWA : भ्रष्ट व लाचार सिस्टम के आगे भटक रहा बेसहारा बुजुर्ग : अपनी मौत की बात सुनकर उड़ गए होश, पेंशन के लिए लगा रहा अफसरों के चक्कर

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. सिस्टम ने एक बुजुर्ग को जीते जी मार डाला। सरकारी दस्तावेजों में बुजुर्ग के मृत दर्ज होने के कारण पेंशन मिलनी बंद हो गई। पहले तो बुजुर्ग ने सोचा अगले महीने आ जाएगी पेंशन लेकिन जब अगले महीने भी नहीं मिली पेंशन तो वह दफ्तर पहुंचा, वहां पता चला कि अमुक नाम के व्यक्ति की तो मौत हो चुकी है फिर कैसी पेंशन। अपनी ही मौत की बात सुन कर बुजुर्ग अवाक रह गए। उन्होंने लाख समझाने की कोशिश की पर किसी न कुछ नहीं सुना। उसके बाद से आठ महीने बीत गए, बुजुर्ग खुद को जीवित साबित कर पेंशन के लिए लगातार चक्कर लगा रहा है पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

प्रकरण जिले के रायपुर कर्चुलियान जनपद पंचायत का है, जहां के लोहदबार ग्राम पंचायत कर्मचारियों से गलती हुई है। ऐसे में बीमार बीरबल साकेत नामक 64 वर्षीय बुजुर्ग कैथडर की थैली हाथ में थामे हर दूसरे-तीसरे ग्रामपंचायत दफ्तर का चक्कर काट रहे हैं। ज्यादा चलने से कैथडर की थैली खून से भर जाती है। उनका स्वास्थ्य अत्यंत खराब है, इलाज के लिए भी पैसे नहीं हैं, पर कहीं कोई सुनवाई नहीं। जानकारी के अनुसार बुजुर्ग की पेंशन मार्च 2021 से बंद है। धीरे-धीरे आठ महीने बीत गए, उनके पास जो पैसा था सब खत्म हो चुका वो कहते हैं कि अब तो खाने को भी फूटी कौड़ी नहीं बची है। फांकाकसी की नौबत आ गई है। इलाज तो दूर की बात है।

इस बीच पिछले दिनों जनपद पंचायत रायपुर के अध्यक्ष जनसुनवाई के लिए बैठे तो बीरबल न उनके सामने भी फरियाद की। अध्यक्ष ने आश्वस्त किया कि वो इस संबंध में रायपुर जनपद के सीईओ से बात कर समस्या का समाधान कराएंगे। उन्होंने यहां तक कहा कि इस मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई भी होगी। अब बीरबल न्याय की आस में उस दिन का इंतजार कर रहे हैं जब सरकारी कागजातों में वो फिर से जीवित होंगे और उन्हें उनकी पेंशन भी मिलेगी।

Powered by Blogger.