रीवा में B.Sc, B.Ed वाले बेरोजगारों का लगा मेला : ड्राइवर और स्वीपर बनने उमड़ी युवाओं की भीड़

( ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा जिला कोर्ट में शनिवार को माली, प्यून, वॉचमैन, ड्राइवर और स्वीपर बनने के लिए बेरोजगारों का मेला लग गया। यहां 15 पदों के लिए शनिवार और रविवार को इंटरव्यू होने हैं। फोर्थ ग्रेड के इन पदों के लिए 11082 बेरोजगार युवा पहुुंचे हैं। इन पदों के लिए अनिवार्य योग्यता 8वीं और 10वीं पास है, लेकिन लाइन में BA, MA, B.Sc, M.Sc, B.Com, B.Ed और M.Ed पास उम्मीदवार भी लगे हैं। ये भर्तियां कलेक्टर गाइडलाइन पर की जा रही हैं।

इस भर्ती परीक्षा में सुबह से ही कोर्ट जाने वाली सभी सड़कें और गलियां उम्मीदवारों से भर गईं। फोर्थ ग्रेड के इन पदों के लिए अपना भाग्य आजमाने MP के अलावा UP के शहरों से भी युवा बेरोजगार आए हैं। महज 15 पदों के लिए उमड़ी युवाओं की इस भीड़ से साफ हो जाता है कि मध्यप्रदेश में बेरोजगारी बहुत है।

कुल इन 15 पदों पर हो रहे हैं इंटरव्यू

इंटरव्यू दो दिन होगा। इसके लिए 11 बोर्ड बनाए हैं। प्यून और माली के लिए 8वीं और ड्राइवर व वॉचमैन के लिए 10वीं पास होना अनिवार्य है।

ड्राइवर - 5 पद

वॉचमैन- 5 पद

माली - 2 पद

स्वीपर - 1 पद

प्यून - 2 पद

इस तरह हुए इंटरव्यू और लाइव टेस्ट

ड्राइविंग की परीक्षा देने आए उम्मीदवारों से वाहन चलवा कर देखा गया। अन्य पदों के उम्मीदवारों से संबंधित बोर्ड ने उनके काम की जानकारी ली। इस दौरान जो भी हिचकिचाया उसे बाहर कर दिया गया। एक-एक उम्मीदवारों को 3 से 4 मिनट का समय दिया जा रहा था। जो कुछ काम के लगे उनका इंटरव्यू करीब 10 मिनट तक लिया गया।

कोर्ट से चौराहा तक बेरोजगारों की लाइन

इंटरव्यू देने पहुंचे बेरोजगारों की संख्या इतनी हो गई कि काेर्ट परिसर में बैठाने के बाद भी कई युवा बाहर रह गए। उनकी चार लाइनें लगाई, जो कुछ ही देर बाद भीड़ में बदल गई। कोर्ट के गेट से इंदरगंज चौराहे तक युवा ही युवा दिखाई पड़ रहे थे। जिन्हें संभालने के लिए कई बार पुलिस को सख्ती करनी पड़ी।

कलेक्टर गाइडलाइन पर रखे जाने हैं कर्मचारी

इन 15 पदों के लिए भर्ती कलेक्टर गाइडलाइन पर होनी है। अभी कलेक्ट्रेट गाइडलाइन में अलग-अलग पदों के लिए 6500 से 12500 रुपए मासिक वेतन दिया जाता है।

किसी भी तरह सिलेक्शन हो जाए

रीवा के दिनेश का कहना है वह प्यून के लिए इंटरव्यू देने आए हैं। अभी बीएससी​​​, बीएड और एमएड कर चुके हैं। नौकरी कहीं नहीं मिल रही है। बस एक सरकारी नौकरी चाहिए। वेतन कितना भी हो पर नौकरी सरकारी हो।

छतरपुर के देवेंद्र मिश्रा बीएससी किए हुए हैं। वह भी प्यून के लिए इंटरव्यू देने आए हैं। उनका कहना है कि 10 से 12 हजार रुपए वेतन मिलेगा, लेकिन उससे ज्यादा सरकारी नौकरी की खुशी रहेगी।

ग्वालियर के सुशील सिंह ने बीए किया है। उनका कहना है कि हालात ऐसे बन गए हैं कि कोई नौकरी नहीं मिल रही है। 2017 से कोई नौकरी नहीं निकली है। अब तो प्यून भी बन जाएं तो ठीक है।


ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या गूगल न्यूज़ या ट्विटर पर फॉलो करें. www.rewanewsmedia.com पर विस्तार से पढ़ें  मध्यप्रदेश  छत्तीसगढ़ और अन्य ताजा-तरीन खबरें

विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें  7694943182, 6262171534

Powered by Blogger.