MP : किडनी ट्रांसप्लांट : 27 वर्षीय महिला को 61 वर्षीय मां ने दी अपनी किडनी, 9 डॉक्टरों की टीम कर रही ऑपरेशन

भोपाल के हमीदिया अस्पताल में दूसरा किडनी ट्रांसप्लांट सोमवार सुबह 8.30 बजे से शुरू हो गया। 27 वर्षीय महिला को उसकी 61 वर्षीय मां अपनी किडनी डोनेट की है। डोनर और रिसिपिएंट दोनों के ऑपरेशन 4 से 6 घंटे तक चलेगा। 9 डॉक्टरों की टीम ऑपरेशन कर रही है। डॉक्टरों ने बताया कि महिला की पहली प्रेग्नेंसी में कॉप्लीकेशन के बाद किडनी खराब हो गई थी। 5 महीने पहले वह डायलिसिस पर आ गई थी।

यह है टीम में शामिल डॉक्टर

ऑपरेशन में सर्जन डॉ. सौरभ जैन, सर्जन डॉ. अमित जैन, एनेस्थिसिया डॉ.यशंवत धावले, डॉ. ब्रेजेश, डॉ. वंदना पांडे, डॉक्टर श्वेता श्रीवास्तव, नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. हिमांशु शर्मा समेत अन्य डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ शामिल है।

शिवपुरी निवासी महिला की 2015 में शादी हुई। 2016 में प्रेग्नेंसी के दौरान उनको ब्लड प्रेशर हाई हो गया। एक निजी अस्पताल में डिलीवरी के बाद समस्या बढ़ने पर भोपाल रैफर कर दिया। जहां जांच में क्रिएटाइन बढ़ा हुआ आया। डॉक्टर ने दवा शुरू की, इसके बाद सबकुछ ठीक था। लेकिन एक साल बाद फिर समस्या बढ़ गई। हमीदिया में जांच कराने पर सामने आया कि किडनी पूरी तरह खराब हो गई है। 5 महीने पहले वह डायलिसिस पर आ गई। इसके बाद उनके गले में परमाकैथ कैथेटर डाला है। इसे 6 महीने तक रख सकते है। इससे ही अभी उनका डायलिसिस हो रहा है।

61 वर्षीय मां दे रही किडनी

27 वर्षीय महिला को उनकी 61 वर्षीय मां किडनी दे रही है। महिला के दो छोटे भाई है। उनके भाई ने बताया कि शुरुआत से भोपाल के निजी अस्पताल में इलाज करा रहे थे। उन्होंने भी डायलिसिस का बोल दिया था। फिर इंदौर में दिखाया तो उन्होंने भी वह सलाह दी। इसके बाद हमीदिया अस्पताल में ट्रांसप्लांट के लिए रजिस्ट्रेशन कराया।

30 मरीज ने कराया रजिस्ट्रेशन

हमीदिया अस्पताल के डॉ. हिमांशु शर्मा ने बताया कि हमारी ट्रांसप्लांट की तैयारी पूरी हो चुकी है। मरीज का आयुष्मान योजना के तहत ट्रांसप्लांट होगा। उन्होंने बताया कि अब तक हमीदिया में 30 मरीजों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। इसमें से 6 मरीजों की जांच भी चल रही है। कुछ मरीजों के साथ डोनर को लेकर दिक्कत है।

शुक्रवार को ट्रांसप्लांट ओपीडी

डॉ. हिमांशु ने बताया कि हमीदिया अस्पताल में प्रति शुक्रवार को ट्रांसप्लांट ओपीडी लगती है। यहां पर मरीज अपने डोनर के साथ आकर रजिस्ट्रेशन करा सकते है। जिसके बाद जरूरी दस्तावेज जमा करने के बाद ट्रांसप्लांट की आगे की कार्रवाई की जाती है।

7 सितंबर को हुआ था पहला ट्रांसप्लांट

हमीदिया अस्पताल में पहला किडनी ट्रांसप्लांट 7 सितंबर को हुआ था। 55 वर्षीय किशनदत्त शर्मा का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था। उनको उनकी पत्नी 48 वर्षीय मीना शर्मा ने किडनी डोनेट की थी। अब वह बिल्कुल ठीक है।

क्या है डायलिसिस

डायलिसिस खराब किडनी के कार्यों को पूरा करने की कृत्रिम प्रक्रिया है। किडनी के काम नहीं करने पर शरीर में जमा होने वाले अनावश्यक पदार्थों, पानी, क्षार एवं अम्ल जैसे रसायनों को कृत्रिम विधि से दूर कर खून को साफ करने की प्रक्रिया को डायलिसिस कहते है।

यह है किडनी खराब होने के बड़े कारण

हाई बीपी

अनियंत्रित डायबिटीज

दर्द की ज्यादा दवा खाने से

शराब के अत्याधिक सेवन

किडनी में स्टोन की वजह

प्रेग्नेंसी में कॉप्लीकेशन

Powered by Blogger.