MP : तीसरी लहर ओमिक्रॉन की वजह से छतरपुर के एक कपड़ा व्यापारी ने खाया जहर, व्यापार में लगातार घाटे से था परेशान

ओमिक्रॉन की वजह से कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका है। इसकी दहशत में मध्यप्रदेश के छतरपुर के एक कपड़ा व्यापारी ने जहर खा लिया। परिवार के लोग उसे जिला अस्पताल लेकर गए। व्यापारी का कहना है कि तीसरी लहर की टेंशन में उसने आत्महत्या करने का मन बनाया था।

छतरपुर जिले के खड़गांय गांव के रहने वाले कपड़ा व्यापारी अंशुल विनय शर्मा की गांव में ही दुकान है। वह हाट-बाजार में भी दुकान लगाते हैं। कोरोना की वजह से उन्हें काफी घाटा हुआ और जमापूंजी भी खत्म हो चुकी है। बची हुई पूंजी से वह नया माल ले आए। ऐसे में तीसरी लहर आने पर पूरी तरह तो बर्बाद होने की आशंका है। परिवार की टेंशन में उसने जान देने की कोशिश की थी।

पहले ही टूट चुका हूं, अब हिम्मत नहीं

अस्पताल में भर्ती अंशुल ने कहा, 'पहले नोटबंदी, फिर पहला कोरोना और लॉकडाउन, इसके बाद कोरोना की दूसरी लहर... आम आदमी और व्यापारी की कमर पहले ही टूट चुकी है। पहले से ही भारी नुकसान में हूं। दो साल पहले ही शादी हुई है। डेढ़ साल की बेटी है। कारोबार की चिंता और परिवार की परवरिश ने डरा दिया है।'

UP में प्रोफेसर कर चुका है पत्नी बच्चों की हत्या

उत्तर प्रदेश के कानपुर में प्रोफेसर ओमिक्रॉन के डर से पत्नी और बच्चों की हत्या कर चुका है। आरोपी प्रोफेसर सुशील सिंह का अब पता नहीं चल सका है। उसके कमरे से बेहद चौंकाने वाला नोट बरामद हुआ था। इसमें प्रोफेसर ने लिखा है कि ओमिक्रॉन सबको मार डालेगा। अब लाशें नहीं गिननी हैं। शुक्रवार शाम को पत्नी और बच्चों की हत्या कर प्रोफेसर ने अपने भाई को वाट्सऐप कर वारदात की जानकारी दी थी।

Powered by Blogger.