REWA : प्रदेशभर में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का रास्ता साफ : चुनाव को लेकर रीवा​ जिले के 15,54,806 मतदाताओं में चहल-पहल शुरू

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट का निर्णय आने के बाद प्रदेशभर में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का रास्ता साफ हो गया है। ऐसे में अब शहर से लेकर ग्रामीण अंचल तक चुनाव को लेकर चहल-पहल शुरू हो गई है। कई लोग चुनाव मैदान में उतने की तैयारियां शुरू कर दी है तो कई मतदाता चुनाव लड़ाने के लिए उम्मीदवार खोज रहे है। ग्रामीण क्षेत्रों में चर्चा है कि अन्य चुनावों की अपेक्षा इस बार युवा उम्मीदवार किस्मत का दांव लगाएंंगे।

जिला निर्वाचन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार जिले में 15,54,806 मतदाता पंचायत मतदान करेंगे। हर मतदाता को चार वोट डालना होगा। जहां पंच और सरपंच का मतदान वैलेट पेपर से तो जनपद पंचायत सदस्य और जिला पंचायत सदस्य का वोट ईवीएम से डालना होगा।

बता दें कि रीवा जिले में जिला पंचायत के कुल 32 वार्ड बनाए गए है। जबकि जिले में 9 जनपद पंचातय है। साथ ही इन जनपद पंचातयों में 25-25 वार्ड है। इसी तरह जिलेभर की 827 ग्राम पंचायतों में सरपंच का चुनाव होगा। वहीं सभी पंचातयों में जनसंख्या के हिसाब से पंचों के वार्ड तय होंगे। दवा है कि एक पंच वाले वार्ड में 100 से 200 तक मतदाता हो सकते है।

बता दें कि पहले वर्ष 2020 में पंचायत चुनाव कराये जाने की अवधि थी। तब वर्ष 2019 में आरक्षण की प्रक्रिया पूरी करा ली गई थी, लेकिन समय से चुनाव नहीं कराये गए। अभी कुछ दिन से पंचायत चुनाव कराये जाने की कवायद शुरू हुई। ऐसे में वर्ष 2019 के आरक्षण को निरस्त करते 2014 के आरक्षण से चुनाव कराए जाने का फैसला सरकार ने लिया था। जिसे हाईकोर्ट में चुनौती दी गई।

गुरुवार को हुई सुनवाई में हाईकोर्ट ने किसी भी तरह के चुनाव में रोक लगाने से इंकार कर दिया। अब सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाये जाने की तैयारी है। लेकिन पूर्व में राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जारी गाइड लाइन के बाद पंचायत चुनाव की समूची तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

Powered by Blogger.