REWA : एक बार फिर लोकायुक्त की बड़ी कार्यवाही : 20 हज़ार की रिश्वत लेते आरक्षक को पकड़ा, थाना प्रभारी से लेकर अन्य सहयोगियों के नाम पर मांगी थी रकम

रीवा लोकायुक्त टीम ने 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते एक पुलिस आरक्षक को बेनकाब किया है। सूत्रों की मानें तो सट्टा पर्ची काटने और महीना फिक्स करने के एवज में थाना प्रभारी से लेकर अन्य सहयोगियों के नाम पर रकम मांगी थी। पैसे न देने पर सटोरिये को परेशान कर रहा था। अंतत: थक हारकर पीड़ित सटोरिया लोकायुक्त कार्यालय पहुंचकर एसपी से शिकायत की।

शिकायत का सत्यापन कराने पर आवेदन सही पाया गया। ऐसे में गुरुवार की शाम 3 बजे 20 हजार रुपए की रकम के साथ रेलवे तिराहे के पास से रंगे हाथ पकड़ा गया है। लोकायुक्त ने आरक्षक के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई जारी रखी है।

लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि गुरुवार की शाम 3 से 4 बजे के बीच रेलवे तिराहा आरओबी ब्रिज के नीचे से चोरहटा थाने के आरक्षक अनिरुद्ध तिवारी को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। आरोपी आरक्षक थाना प्रभारी के नाम पर 15 हजार, स्वयं के लिए 2 हजार और अन्य सहयोगियों के नाम पर 3 हजार रुपए लिए है।

ट्रेप कार्रवाई डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार के नेतृत्व में निरीक्षक प्रमेंद्र कुमार ने की है। उसनके साथ निरीक्षक जियाउल हक, प्रधान आरक्षक मुकेश मिश्रा, पवन पाण्डेय, धर्मेंद्र जायसवाल, प्रेम सिंह, शैलेंद्र मिश्रा, शाहिद खान सहित 15 सदस्यीय दल शामिल रहा है।

सटोरियों के जाल में फंसी पुलिस

लोकायुक्त एसपी की मानें तो चोरहटा थाने का जवान अनिरुद्ध तिवारी खुद सटोरियों के बुने जाल में फंस गया है। उसने सटोरिया तुलसीदास कोल उर्फ बाबूलिया कोल से सट्टा पर्ची काटने और महीना के रूप में पैसे की डिमांड की थी। लेकिन पहली ही महीना में फंस गया। फिलहाल आरोपी आरक्षक को आगे की कार्रवाई के लिए सर्किट हाउस ले जाया गया है। जहां लोकायुक्त टीम ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर खबर लिखे जाने तक कार्रवाई जारी रखी है।

नवागत एसपी की 6वीं कार्रवाई

लोकायुक्त एसपी की एक माह के अंदर में 6वीं कार्रवाई है। 29 दिन पहले गोविंदगढ़ थाना प्रभारी एसएस बघेल व एएसआई देशराज सिंह को 13 हजार की रिश्वत के साथ पकड़ा था। 20 दिन पहले दिलीप सिंह परस्ते पटवारी हल्का भरौली वृत अमदरा तहसील मैहर जिला सतना को 5 हजार रुपए लेते ट्रेप किया। इसी तरह 17 दिन के भीतर तीसरी कार्रवाई में सचिव रावेंद्र पटेल ग्राम महुगड़ा पोस्ट कुलबहेलिया तहसील थाना मऊगंज को 15 हजार रुपए, 16वें दिन वनरक्षक आशीष यादव गुझियारी टोला वार्ड नंबर 9 गोविंदगढ़ और 15वें दिन 30 हजार की रिश्वत मामले में राहुल खरे सहायक वित्त अधिकारी मध्य प्रदेश पाठ्य पुस्तक निगम भोपाल और आरसी मिश्रा प्रबंधक पाठ्य पुस्तक निगम रीवा को आरोपी बनाया है। अब 9 दिसंबर को 20 हजार रुपए के साथ आरक्षक को पकड़ा गया है।

Powered by Blogger.