REWA : कलेक्टर ने मनगवां नपं बाबू को निपटाया : अपात्र को पात्र बनाने 5 हजार रुपए मांगी थी रिश्वत

रीवा जिले के मनगवां नगर पंचायत अंतर्गत अपात्र को पात्र बनाने के एवज में 5 हजार रुपए की डिमांड करने वाले बाबू को कलेक्टर ने निलंबित कर दिया है। सूत्रों की मानें तो 10 दिसंबर को PM आवास में भ्रष्टाचार का ऑडियो वायरल हुआ था। ऐसे में 11 दिसंबर को कलेक्टर इलैयाराजा टी ने पूरे मामले को संज्ञान में लेते हुए CMO को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। नतीजन दूसरे दिन मनगवां नपं के​ CMO हरिमित्र श्रीवास्तव ने मनगवां थाने को प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पत्राचार किया था।

ये है मामला

बता दें कि 5 दिन पहले शिवकुमार तिवारी मूलपद प्लंबर (तत्काली प्रधानमंत्री आवास योजना एवं निर्माण प्रभारी) के द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राही रामसजीवन यादव से कार्यालयीन दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर अपात्र को पात्र किये जाने के लिए 5 हजार रुपए राशि की मांग की थी। तब वार्तालाप के 6 मिनट का ऑडियो रीवा जिले के व्हाट्सएप ग्रुपों में वायरल हुआ था। सोशल मीडिया में सरे आम रिश्वत का ऑडियो वायरल होने पर प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना पीएम आवास पर सवाल उठने लगे थे।

जिला शहरी विकास अभिकरण अटैच

बीते दिनों कलेक्टर ने रिश्वत के मामले को संज्ञान में लेते हुए मुख्य नगर पालिका अधिकारी एवं टूडा परियोजना अधिकारी से रिपोर्ट मांगी थी। जिसके बाद कलेक्टर ने बाबू (मूलपद प्लंबर) शिवकुमार तिवारी को निलंबित कर दिया। निलंबन अ​वधि के दौरान शिवकुमार तिवारी का मुख्यालय जिला शहरी विकास अभिकरण रीवा रहेगा। साथ ही निलम्बन के दौरान नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी। कलेक्टर द्वारा निलंबन का आदेश जारी होने के बाद से रीवा जिले के घूसखोरों में हड़कंप मचा है।

Powered by Blogger.