REWA : रीवा बीईओ के निरीक्षण से खुली पोल, अवकाश में प्रतिबंध के बावजूद कई शिक्षक पाए गए आकस्मिक अवकाश पर


रीवा। जिला कलेक्टर इलैया राजा टी के निर्देशन में रीवा विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी आर.एल. दीपांकर लंबे समय के बाद आज विकासखंड की कई विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षक के दौरान संकुल प्राचार्यो की लापरवाही एवं स्वेच्छाचरिता प्रथम दृष्टया देखने को मिली।

विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी रीवा श्री दीपांकर ने प्रेस को दी जानकारी में बताया कि शा.उ.मा.वि. शिवपुर्वा 603 मे 5 शिक्षक आकस्मिक अवकाश पर पाए गए जबकि निर्वाचन आयोग एवं जिला कलेक्टर के आदेशानुसार सभी प्रकार के अवकाश पर प्रतिबंध है। विशेष स्थित पर मेडिकल बोर्ड से ही अवकाश स्वीकृत माने जाएंगे। प्राचार्य की इस लापरवाही पर सभी अवकाश में गए शिक्षकों एवं अवकाश स्वीकृत कर्ता अधिकारी को कारण बताओ सूचना जारी किया जा रहा है। 


संकुल केंद्र खजुहा अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय दूबी में 28 छात्रों के बीच मात्र एक शिक्षिका अध्यापन कार्य के लिए नियुक्त हैं, जबकि नियमानुसार किसी भी विद्यालय में 1 शिक्षक अध्यापन नहीं कर सकते यदि शिक्षकों की कमी है तो अतिथि शिक्षक रखा जा सकता है पोर्टल अपडेट नहीं कराया गया और विद्यालय में एक शिक्षक होने के बावजूद भी 2 शिक्षक पदस्थ दिखाई जा रहे हैं । शिक्षिका ने बताया कि अकेले अध्यापन कार्य करने में काफी समस्या उत्पन्न हो रही है। डीईओ ने बताया कि इस विद्यालय में अतिथि शिक्षक रखे जाने के प्रयास किए जायेगे।

संकुल केंद्र शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय टीकर में अध्यापन कार्य सुचारू ढंग से पाया गया। एक शिक्षक मेडिकल अवकाश पर बताए गए वहां उच्च माध्यमिक शिक्षक के 4 पद रिक्त है।

बीईओ के निरीक्षण में उजागर हुई कमियां

विकास खंड शिक्षा अधिकारी आर.एल. दीपांकर ने यह भी बताया कि जिन विद्यालयों में शिक्षक उपलब्ध भी हैं तो पठन-पाठन की स्थिति सही ढंग से संचालित नहीं हो रही है जिन्हें तत्काल स्थिति सुधारने के लिए निर्देशित किया गया। बीईओ ने कहा है कि निरीक्षण अनवरत जारी रहेगा।

लंबित सीएम हेल्पलाइन के त्वरित निराकरण के भी दिए गए निर्देश

निरीक्षण दल मे रीवा विकासखंड के सी.एम हेल्पलाइन के नोडल प्रभारी गणेश तिवारी भी शामिल रहे जिन्होंने संबंधित विद्यालय में लंबित सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों को त्वरित निराकरण करने के लिए  कर्मचारियों को निर्देशित किया।
Powered by Blogger.