Kharmas starting 2022 : आज से खरमास में नए कपड़े और आभूषण की कर सकेंगे खरीदारी, भूलकर भी ना करें ये कार्य : पढ़िए

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार खरमास काल में नियमों का बहुत ध्यान रखना होता है। साल 2022 में 14 मार्च की रात करीब 2.39 बजे सूर्य कुंभ से निकलकर मीन राशि में बृहस्पति की राशि में प्रवेश करेंगे। ऐसा होते ही खरमास शुरू हो जाएगा। इसके बाद 14 अप्रैल 2022 की सुबह 10.53 मिनट पर सूर्य के मेष राशि में प्रवेश करते ही खरमास खत्म हो जाएगा। 15 मार्च से 14 अप्रैल तक का समय खार मास कहलाएगा और इस दौरान कुछ विशेष सावधानी रखनी होती है। आइए जानते हैं खरमास से जुड़ी हुई कुछ खास बातें -

ज्योतिष तत्व विवेक नामक ग्रंथ में बताया गया है कि यदि सूर्य की राशि में गुरु हो और गुरु की राशि में सूर्य हो तो वह काल गुरुवादित्य कहलाता है, ऐसी अवधि में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है।

खरमास में दान करने से तीर्थ यात्रा करने के समान ही पुण्य फल मिलता है। खरमास में निस्वार्थ भाव से भगवान के करीब आने के लिए जो व्रत किए जाते हैं, उनका अटूट फल मिलता है और सभी पापों से मुक्ति मिलती है।

खरमास में जरूरतमंद लोगों, संतों और दुखी लोगों की सेवा करना जरूरी है। खरमास में दान के साथ-साथ श्राद्ध और मंत्र जाप का भी विधान है।

खरमास में नए कपड़े, आभूषण, मकान, वाहन और रोजमर्रा की जरूरी चीजें खरीदने से बचना चाहिए। कोई भी शुभ कार्य भी नहीं होता है।

खरमास में नए रत्न और आभूषण की खरीदारी की जा सकती है लेकिन उन्हें इस अवधि में पहनना नहीं चाहिए।

खरमास में फल प्राप्ति की इच्छा से किए जाने वाले सभी कार्य जैसे किसी प्रयोजन के लिए व्रत का प्रारंभ, उद्यान, कर्णवेध, मुंडन, यज्ञोपवीत, समावर्तन (गुरुकुल से विदाई), विवाह और प्रथम तीर्थ का निषेध है। इस दौरान तामसिक भोजन का सेवन भी नहीं करना चाहिए।

Powered by Blogger.