REWA : मजदूर की बेटी रामकली ने निकाला देश का सबसे कठिन GATE EXAM, ऑल इंडिया में हासिल की 3290 रैंक

रीवा । कहते हैं कि हर काम को करने के लिए एक सच्चे मन और काम के प्रति सच्ची निष्ठा और एक खुद पर भरोसा होना जरूरी है ठीक उसी तरह रीवा के छोटे से गांव की रहने वाली रामकली कुशवाहा ने अपने सपने को पाने के लिए लगातार कोशिशें जारी रखी और छात्रा ने अपने बलबूते पर गेट के एग्जाम को पास कर यह बता दिया कि सच्ची मेहनत और श्रद्धा से सब कुछ पाया जा सकता है।

मीडिया से रूबरू होते हुए रामकली कुशवाहा ने बताया कि मेरे माता-पिता का सबसे अहम योगदान रहा है मेरे माता पिता गरीब परिवार से होते हुए भी मेरे भाइयों के लिए किसी प्रकार की कमी की कोई कसर नहीं छोड़ी वही आपको बता दें की छात्रा रामकली घर की सबसे बड़ी बेटी हैं जहां उनके तीन भाई बहन हैं. एक भाई 12वीं में है और बहन नवमी में तो सबसे छोटा भाई 5 साल का है। छात्रों ने जानकारी देते हुए यह बताया कि वह आईआईटी मुंबई से एमटेक करना चाहती हैं जहां अपने आगे के भविष्य को लेकर सपनों की उड़ान भरना चाहती हैं।

माता-पिता का अहम योगदान

आपको बता दें कि छात्र रामकली कुशवाहा के पिता ने अपनी बेटी को सपने को पूरा करने के लिए एक लैपटॉप दिलाया जहां छात्रा सच्ची लगन के साथ लगातार मेहनत करती रही और आखिरकार उन्होंने गेट का एग्जाम पास कर लिया। आपको बता दें कि रामकली कृष्णा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ती थी वह कॉलेज बंद हो चुका था जहां ट्रांसफर होने के बाद जवाहरलाल नेहरू कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी की दूरी 60 किलोमीटर थी इतनी दूरी तय करने के बावजूद भी छात्रा ने हार नहीं मानी और रोजाना की तरह कॉलेज का अप डाउन किया जहां एक बार में 60 किलोमीटर दूरी का किराया ₹50 होता था। 

गेट के लिए लगातार जारी रखी पढ़ाई

बता दें कि छात्रा रामकली कुशवाहा पिता चंद्रिका कुशवाहा लगातार पढ़ाई जारी रखी अपने सपनों को साकार करने के लिए मोबाइल का कम से कम उपयोग करती थी और सारा ध्यान पढ़ाई पर होता था कहते हैं कि जिस चीज के लिए आप निकल पड़ो हासिल करने के लिए वह चीज दिन जरूर हाथ लगती है. ठीक उसी तरह रीवा की बेटी रामकली एक जीता जागता उदाहरण है बिना किसी ट्यूशन के छात्रा ने अपनी सच्ची लगन और श्रद्धा से गेट के एग्जाम को पास किया।

ऐसा रहा स्कूल का सफर

आपको बता दें कि छात्रा रामकली कुशवाहा ने कक्षा 1 से 4  तक की पढ़ाई सरस्वती ज्ञान मंदिर में की आठवीं की पढ़ाई आदर्श स्वामी विवेकानंद माध्यमिक विद्यालय लोरी में नंबर 2 से की। वहीं छात्रा ने 12वीं की पढ़ाई ग्रामोदय हायर सेकेंडरी स्कूल गढ़ से पूरी की। 

GATE में हासिल की 435 वी रैंक

आपको बता दें कि छात्र रामकली ने सिविल इंजीनियरिंग में 3290 ऑल इंडिया रैंक और एनवायरमेंट साइंस एंड इंजीनियरिंग में 435वी रैंक हासिल की। वहीं छात्रा से सीएम शिवराज ने मुलाकात करते हुए यह भी कहा कि छात्रा के एमटेक की पढ़ाई के लिए राज्य सरकार पूरा सहयोग करेगी।

Powered by Blogger.