Yogi Adityanath ने दूसरी बार ली CM पद की शपथ : कई पुराने चेहरे मंत्रिमंडल से बाहर, 35 साल बाद किसी पार्टी को लगातार दूसरी बार मिली बहुमत

योगी आदित्यनाथ ने इकाना स्टेडियम में आज दोबारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर ली. शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित तमाम बड़े नेता मौजूद रहे. सीएम और डिप्टी सीएम सहित योगी कैबिनेट में 53 दिग्गज हैं. उत्तर प्रदेश की सियासत के कई मिथक तोड़ते हुए योगी आदित्यनाथ ने लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश की कमान संभाल ली है. 

गोरक्षपीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश का राजनीतिक इतिहास बदल दिया है. यूपी में 35 साल बाद किसी पार्टी को लगातार दूसरी बार बहुमत मिला है. 

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई, जबकि केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली. इसके अलावा 16 कैबिनेट मंत्री, 14 राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 20 राज्य मंत्री बनाए गए हैं. निवर्तमान डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा, श्रीकांत शर्मा, सिद्धार्थनाथ सिंह, मुकुट बिहारी वर्मा को मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई है.

आदित्यनाथ योगी की शपथ

मैं आदित्यनाथ योगी... ईश्वर की शपथ लेता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा. मैं भारत की प्रभुता और अखंडता को अक्षुण्ण रखूंगा. मैं उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों का श्रद्धापूर्वक और शुद्ध अंतःकरण से निर्वाहन करूंगा तथा मैं भय या पक्षपात, अनुराग या द्वेष के बिना, सभी प्रकार के लोगों के प्रति संविधान और विधि के अनुसार न्याय करूंगा.

मैं आदित्यनाथ योगी... ईश्वर की शपथ लेता हूं कि जो विषय उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में मेरे विचार के लिए लाया जाएगा अथवा मुझे ज्ञात होगा, उसे किसी व्यक्ति या व्यक्तियों को, तब के सिवाए जबकि ऐसे मुख्यमंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों के सम्यक निर्वहन के लिए ऐसा करना अपेक्षित हो, मैं प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संसूचित या प्रकट नहीं करूंगा.

योगी आदित्यनाथ का राजनीतिक सफर

योगी आदित्यनाथ साल 1998 के लोकसभा चुनाव में गोरखपुर संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के टिकट पर पहली बार सांसद निर्वाचित हुए. उस समय योगी आदित्यनाथ सबसे कम उम्र के सांसद थे. इसके बाद वे 1999, 2004, 2009 और 2014 के लोकसभा चुनाव में भी गोरखपुर संसदीय सीट से सांसद निर्वाचित होते रहे. 12 सितंबर 2014 को महंत अवैद्यनाथ के निधन के बाद योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के महंत बने. यूपी विधानसभा के 2017 के चुनाव में बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला जिसके बाद योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने.

गोरखपुर में भी जश्न

सीएम योगी आदित्यनाथ के शपथ लेते ही गोरखपुर में दिन में ही आतिशबाजी शुरू हो गई, पटाखे चलने लगे. गोरखनाथ मंदिर के बाहर लगे डीजे पर लोग योगी आदित्यनाथ के दोबारा मुख्यमंत्री बनने पर फूले नहीं समा रहे थे. उनके शहर के संरक्षक योगी आदित्यनाथ ने दूसरी बार उत्तर प्रदेश की कमान संभाल ली है.

इसी बीच गोरखनाथ मंदिर पर योगी आदित्यनाथ समर्थक और बीजेपी के कार्यकर्ता बुलडोजर लेकर पहुंच गए और बुलडोजर पर ही थिरकने लगे. वहीं गोरखनाथ मंदिर के अंदर भजन-कीर्तन किया जा रहा है. लोगों के बीच मिठाई बांटी जा रही है. गोरखनाथ मंदिर में हजारों की संख्या में मौजूद लोग जश्न मना रहे हैं.

Powered by Blogger.