MP में बीयर-शराब हुई सस्ती : देशी की रेट लिस्ट चस्पा तो अंग्रेजी शराब की चस्पा नहीं ....

जिले में शराब सिंडीकेट (liquor syndicate) टूटने का असर दिखने लगा है। शराब की कीमतों में कमी हो गई है। देशी शराब की तो सभी दुकानों पर रेट लिस्ट भी चस्पा कर दी गई है, लेकिन अंग्रेजी शराब की कीमतों की रेट लिस्ट अभी दुकानों पर चस्पा नहीं हुई है। इंटरनेट की स्पीड लगातार कम रहने के कारण ठेके हस्तांतरण की दस्तावेज की प्रक्रिया धीमी गति से हो रही है, चालान से जमा राशि कई स्थानों पर रिकॉर्ड में नहीं दिख रही है।

BRO ने मल्टी स्किल्ड वर्कर्स के 302 पदों पर निकाली भर्ती : 18 अप्रैल तक करें अप्लाई

नवदुर्गा के बाद शराब ठेकेदारों ने अंग्रेजी शराब के अभी सभी ब्रांड के रेट नहीं तय नहीं किए हैं। शहर में शराब की दुकानों को अलग-अलग संचालन करने वाली दो बड़ी कंपनियों ने रेट तय नहीं किए हैं। दोनों ही कंपनी एक दूसरे की रेट लिस्ट के इंतजार में हैं।

पूर्व CM दिग्विजय सिंह के खिलाफ FIR दर्ज : गलती का अहसास होने पर डिलीट कर दी पोस्ट, जानिए पूरा मामला

देशी शराब का अद्धा व पौवा की कीमत 100 रुपए के अंदर 57 रुपए व 81 रुपए हो गई है, विगत वर्ष इसकी कीमत 110 व 140 रुपए थी। बीयर की कीमत में 45 रुपए से 60 रुपए की कमीं‌ हुई है। अंग्रेजी शराब की बोतल की कीमत दुकान पर पूर्व में 1200-1500 रुपए थी वह भी 800 से 1100 रुपए तक हो गई है और नवदुर्गा के बाद शराब कारोबारियों में प्रतिद्वंदिता बढ़ने पर और अधिक कम हो जाएगी। शहर में दो बड़े शराब कारोबारियों के अलग-अलग ग्रुप के ठेके हैं और इनमें प्रतिद्वंदिता भी चल रही है, हालांकि अधिक लाभ के लिए कुछ लोग इन दोनों के बीच सामंजस्य बनाने के लिए भी सक्रिय हैं।

अभी नई दुकानों में शराब के सभी ब्रांड की कमी

शराब ठेकेदार व कंपनियों द्वारा अंग्रेजी शराब के सभी ब्रांड के रेट तय न किए जाने से शराब दुकानों में अभी सभी ब्रांड की शराब की कमीं है। दुकानें खाली हैं जिन दुकानों में नियमित सप्लाई होने वाली शराब व बीयर भेजी जा रही है उसे फिलहाल निर्धारित न्यूनतम कीमत पर बेचे जाने के निर्देश दिए गए हैं। जबकि विगत वर्ष अंग्रेजी शराब अधिकतम से भी अधिक कीमत पर बेची जा रही थी।

पूर्व विधायक की साझेदारी की अटकलें, डील लगभग पक्की हुई

शहर के शराब कारोबार में एक शराब कारोबारी के साथ पूर्व विधायक की साझेदारी की अटकलें चल रही हैं। विभाग के सूत्रों के अनुसार कारोबारी व पूर्व विधायक के बीच डील लगभग पक्की हो चुकी है।

आयुक्त कार्यालय राजस्व भवन में शिफ्ट

मोेतीमहल स्थित आबकारी आयुक्त कार्यालय में विगत सप्ताह झांसी रोड स्थित राजस्व भवन में शिफ्ट हो गया। कार्यालय का पूरा सामान भी शिफ्ट हो गया है और इंटरनेट, बिजली व बैठक व्यवस्था व्यवस्थित की जा रही है।

Powered by Blogger.