SATNA : राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ शहीद की हुई अंत्येष्टि : CISF की बटालियन ने अपने जांबाज साथी को दी सलामी, हजारों की आंखे हुई नम

तना के वीर सपूत शहीद शंकर प्रसाद पटेल को हजारों नम आंखों ने रविवार की सुबह अंतिम विदाई दी। गृह ग्राम नौगवां में पूरे राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ शहीद की अंत्येष्टि की गई। उन्हें मुखाग्नि उनके बड़े बेटे संजय पटेल ने दी। सुबह शहीद का पार्थिव शरीर उनके अंतिम दर्शनों के लिए उनके घर पर रखा गया था।

यहां लोगों ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए। सीआईएसएफ की बटालियन ने अपने जांबाज साथी को सलामी दी। शहीद अंतिम यात्रा उनके घर के सामने बगीचे में उनके पारिवारिक श्मशान तक गई जहां अंत्येष्टि की गई।

अंतिम यात्रा में शामिल हुए एनटीएफ चेयरमैन बिट्टा

शहीद की शहादत को नमन करने नेशनल टेररिस्ट फ्रंट के चेयरमैन एमएस बिट्टा भी पहुंचे। उन्होंने शहीद को पुष्प चक्र अर्पित कर सैल्यूट किया और शहीद की पत्नी लक्ष्मी से मुलाकात कर संवेदना व्यक्त की। वे शहीद के बेटों से मिले और पौत्र-पौत्री के साथ काफी देर तक खड़े रहे।

पत्नी को सौंपा तिरंगा

सीआईएसएफ के आईजी ने शहीद की पत्नी लक्ष्मी पटेल को तिरंगा सौंपा। तिरंगा गोद में लिए वे पूरे समय अंत्येष्टि स्थल पर मौजूद रहीं। शहीद को अंतिम विदाई देने नौगवां में हजारों की भीड़ उमड़ी थी। हर खास और आम की आंखें नम और चेहरे पर गर्व के भाव थे। शहीद की अंतिम यात्रा शुरू हुई तो पूरा नौगवां भारत माता की जय, वंदे मातरम, शंकर प्रसाद अमर रहें, जब तक सूरज चांद रहेगा शंकर प्रसाद का नाम रहेगा के जयकारों से गूंजने लगा।

सीएम ने की प्रतिमा लगाने की घोषणा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहीद शंकर प्रसाद को श्रद्धाजंलि देते हुए घोषणा की है कि शहीद के एक परिजन को शासकीय सेवा और एक करोड़ रुपए की राशि दी जाएगी। उनके गृह ग्राम में शहीद शंकर प्रसाद पटेल की प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

ये रहे मौजूद

शहीद शंकर प्रसाद पटेल को अंतिम विदाई देने नेशनल टेररिस्ट फ्रंट के चेयरमैन एमएस बिट्टा, राज्यमंत्री रामखेलावन पटेल, सांसद गणेश सिंह, विधायक नारायण त्रिपाठी, भाजपा नेता योगेश ताम्रकार, श्रीकांत चतुर्वेदी, संजय राय, कमलेश सुहाने, कलेक्टर अनुराग वर्मा, एसपी धर्मवीर सिंह, सीआईएसएफ के आईजी, वरिष्ठ कमांडेंट, कमांडेंट सहित हजारों लोग मौजूद रहे।

Powered by Blogger.