परीक्षा में सिक्योरिटी बेहतर करने की तैयारी में PEB : गड़बड़ी होने पर अफसरों को मिलेगा अलर्ट मैसेज

प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (PEB-पुराना नाम व्यापमं) भविष्य में कराए जाने वाले एग्जाम के लिए नई एजेंसी तलाश रहा है। PEB अपने ऑनलाइन एग्जाम में सिक्योरिटी सिस्टम को और ज्यादा अपग्रेड करने जा रहा है। इसके लिए एक्स्ट्रा फीचर जोड़े जा रहे हैं। अब 'एग्जाम रिफ्लेक्शन ऐप्लिकेशन' के जरिए हर कैंडिडेट की ऑनस्क्रीन एक्टिविटी की VIDEO रिकॉर्डिंग की जाएगी।

एक पोर्टल भी होगा, जिस पर यह VIDEO अवेलेबल होगा। PEB के अधिकारी एग्जाम के बाद किसी भी कैंडिडेट की पूरी एक्टिविटी देख सकेंगे। अभी तक स्क्रीनशॉट्स लिए जाते हैं, लेकिन अब ये स्क्रीनशॉट्स एन्क्रिप्टेड (जानकारी को कोड की भाषा में बदलना) होंगे, जिससे डेटा ट्रांसफर के बाद उसे खोल नहीं सकें।

सिक्योरिटी फुल प्रूफ करने लिए एक और फीचर लाया जा रहा है। इससे यह होगा कि सिक्योरिटी सिस्टम में किसी भी तरह की असामान्य घटना, इसमें सेंध लगने या सिक्योरिटी स्टैंडर्ड से समझौता होने संबंधी जानकारी तत्काल PEB के 'की-ऑफिशियल' यानी प्रमुख अधिकारियों को मिलेगी। यह जानकारी ऑटो जनरेट होगी। SMS और Email के जरिए अधिकारियों तक पहुंचेगी।

इसलिए अपडेट किया जा रहा सिस्टम

PEB के एग्जाम में गड़बड़ी के आरोप लगते रहते हैं। हाल ही में आरक्षक भर्ती परीक्षा और प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (MPTET) वर्ग-तीन की परीक्षा पर आरोप लगे। व्यापमं कांड के बाद ऑनलाइन सिस्टम को अपनाया, लेकिन इसमें भी सेंध लग चुकी है। ऐसे में PEB सिक्योरिटी सिस्टम को मजबूत कर रहा है। आरक्षक भर्ती परीक्षा और MPTET में लगे आरोपों से पहले PEB ने सिक्योरिटी सिस्टम को मजबूत करने की प्रोसेस शुरू कर दी थी।

PEB के भविष्य पर सवाल, कंपनी नहीं ले रही रुचि

PEB ऑनलाइन एग्जाम कराने के लिए तमाम कसरत कर रहा है, लेकिन इसके भविष्य को लेकर सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में PEB को नई एजेंसी मिलना मुश्किल हो सकता है। एजेंसी के चयन के लिए पिछले महीने टेंडर जारी किया जा चुका है। क्वेश्चन बैंक के लिए भी टेंडर जारी किया था। इसमें भी एक ही कंपनी ने हिस्सा लिया था। इसके कारण क्वेश्चन बैंक की प्रोसेस को निरस्त करना पड़ा। PEB के भविष्य को लेकर कंपनियां असमंजस में हैं। राज्य सरकार PEB से काम कब वापस ले ले? इसको लेकर अनिश्चितता का माहौल है।

दरअसल, राज्य सरकार ने PEB के स्थान पर कर्मचारी चयन बोर्ड बनाने का निर्णय लिया है। नया बोर्ड सामान्य प्रशासन विभाग (GAD) के अंतर्गत संचालित होगा, लेकिन इसे कब तक जमीनी स्तर पर उतारा जा सकेगा? तय नहीं हो सका। GAD ने इस पर कसरत शुरू कर दी है। PEB के अधिकारियों के साथ GAD के ACS विनोद कुमार ने पिछले दिनों बैठक कर PEB के कार्य करने पद्धति सहित अन्य जानकारी फीडबैक लिए गए हैं।

अभी यह है प्रमुख सिक्योरिटी सिस्टम

उम्मीदवार का 'आधार' ऑथेंटिकेशन का थ्री लेयर सिस्टम है। कैंडिडेट का एंट्रेंस, रूम के अंदर और बाहर निकलने पर आधार के जरिए वेरिफिकेशन होता है। कैंडिडेट के हर रिस्पॉन्स पर हैसिंग का सिस्टम है। इसके तहत हर सवाल पर उम्मीदवार ने क्या ऑप्शन दिया है, उसका मिलना रेंडमली जनरेट होने वाली हैश-की से मिलान होता है। जिससे यह पता लग सके कि कहीं हैकिंग जैसी बात नहीं है। कम्प्यूटर सिस्टम पर एग्जाम के दौरान कोई भी एक्सट्रा एक्टिविटी सर्विस या ऐप्लिकेशन एक्टिव ना हो। यह व्यवस्था आगे भी रहेगी।

पहली बार होगा क्वालिटी एंड कॉस्ट बेस्ड सिलेक्शन

वर्तमान में PEB ऑनलाइन एग्जाम कराने वाली आउटसोर्स एजेंसी को 168 रुपए प्रति उम्मीदवार भुगतान करता है। इस बार एजेंसी का चयन उसके द्वारा दी गई लो कॉस्ट के आधार पर नहीं कर क्वालिटी के आधार पर किया जाएगा। इसके लिए क्वालिटी एंड कॉस्ट बेस्ड सिलेक्शन (QCBS) प्रोसेस को अपनाया जा रहा है। इसके तहत यदि किसी एजेंसी का लो रेट है, लेकिन क्वालिटी ठीक नहीं है तो उसका चयन करने के स्थान पर उससे कुछ हद तक अधिक रेट होने पर बेहतर क्वालिटी देने वाली एजेंसी को प्राथमिकता दी जाएगी। क्वालिटी परखने के लिए 9 पैरामीटर तय किए गए हैं।

क्वालिटी परखने के पैरामीटर

एग्जाम कराने से होने वाला सालाना टर्नओवर 25 करोड़ होना चाहिए।

एग्जाम मैनेजमेंट प्रोसेस में 5 साल का एक्सपीरिएंस हो।

कम से कम 5 एग्जाम हों, जिसमें कम से कम 15 हजार उम्मीदवार एक ही शिफ्ट में बैठे हों।

पिछले पांच साल में 20 लाख उम्मीदवारों की परीक्षा कराई हो।

कम से कम 80 परीक्षा केंद्रों को मैनेज करने का एक्सपीरिएंस होना चाहिए।

एजेंसी का कैपेबिलिटी मैचयोरिंग मॉडल इंटीग्रेशन CMMI लेवल-5 होना चाहिए। इसके तहत यह परखा जाएगा कि कंपनी कैसे काम करते हैं। कैसे रिकॉर्ड रखती हैं।

कंपनी के पास 150 लोगों का नियमित स्टाफ होना चाहिए।

डेटा सेंटर टियर-फोर का सर्टेन सर्टिफाइड डेटा सेंटर हो।

डेटा रिकवरी की सुविधा होनी चाहिए। इसके लिए डेटा को एक अन्य गोपनीय स्थान पर ही सुरक्षित रखना होगा।

Powered by Blogger.