दो साल से तंत्र-मंत्र बताकर लाखों की ठगी : महिला पर बुरी नजर डाली तो फूटा भांडा, भूत-प्रेत के चक्कर में फंसकर नकदी और 6 तोला जेवर गंवा बैठा परिवार

जबलपुर में तंत्र-मंत्र और भूत-प्रेत के चक्कर में फंसकर एक परिवार लाखों रुपए नकदी और 6 तोला जेवर गंवा बैठा। आरोपियों की नीयत परिवार की महिला पर भी खराब हो गई थी, लेकिन चौकन्ना रहने से वह बच गई। पुलिस ने इस हैरान करने वाले मामले में धोखाधड़ी और छेड़छाड़ सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज कर किया है।

गोहलपुर पुलिस के मुताबिक शिकायतकर्ता 40 वर्षीय महिला ने बताया कि वह 12वीं तक पढ़ी है और घरेलू काम करती है। जुलाई 2020 में उसके पति से उनके पूर्व परिचित राजा उपाध्याय ने परेशान रहने की वजह पूछी। घरेलू समस्याएं बताने पर वो बोला कि उसके भाई का साला अरुण दुबे पूजा पाठ और तंत्र साधना से तुम्हारी समस्या ठीक कर देगा।

अरुण को लेकर राजा उसके घर आया

कुछ दिन बाद अरुण दुबे को लेकर राजा उनके घर आया। अरुण ने पति की कुंडली मांगी। न होने पर बेटे की कुंडली दी। तब अरुण बोला कि उसके बेटे की कुंडली में नीच के मंगल हैं। तुम्हारा बेटा जीवन में कुछ नहीं कर पाएगा। परिवार पर पितृदोष है, साथ ही घर में 7 प्रेत हैं। उसने कहा- मैं अपने दंडी स्वामी से पूछकर उपाय बताऊंगा। कुछ दिनों बाद वे फिर से उसके घर काली किताब, माला और पूजन सामग्री लेकर पहुंचे। पति से एक पाव दारू मंगवाई।

दोनों ने तंत्र साधना करने का नाटक किया

राजा उपाध्याय ने शराब पीकर घर की लाइट बंद कराकर तंत्र साधना की। फिर अरुण बोलने लगा तुम्हारे घर में भूत प्रेत के साथ 16वीं शताब्दी का गड़ा धन है। उसी समय राजा उपाध्याय को सवारी आई। अरुण ने पूछा कौन हो? तो राजा उपाध्याय कहने लगा आरिफ हूं, अल्लाह-हू-अकबर फिर थोड़ी देर बाद राम-राम कहने लगा। अरुण ने डपटकर पूछा कि सही-सही बताओ, तो बोला कि मैं मनोज गुप्ता हूं, भटकते-भटकते यहां आकर रहने लगा हूं। इसके बेटे को 28 दिन के अंदर अपने साथ दूसरे लोक में ले जाऊंगा।

पूजा-पाठ का बताकर 3.55 लाख रुपए वसूले

कुछ देर बाद राजा उपाध्याय नॉर्मल बातचीत करने लगा। अरुण दुबे ने बताया कि घर में प्रेत बाधा है, पूजा पाठ से ठीक करना होगा। उपाय के तौर पर पति और बेटे को नीलम, पुखराज आदि राशि रत्न दिए। फिर पूजा पाठ और राशि रत्न के नाम से उसके पति से अलग-अलग किस्तों में 2 लाख और उससे 1 लाख रुपए ले लिए। दंडी स्वामी को देने के नाम पर आईफोन के लिए 55 हजार रुपए ले लिए।

अंगूठी-कंगन में प्रेत आत्मा बताकर हड़प ली

7 सितंबर 2020 को पीड़ित महिला के मोबाइल पर अरुण दुबे ने कॉल कर कहा कि उसके पहने गए कंगन व अंगूठी में उसके जेठ की प्रेत आत्मा है। तुरंत एक कटोरे पानी में डालकर रख दो। कुछ देर बाद अरुण महिला के घर पहुंचा और दोनों जेवर मांगने लगा। मना करने पर बोला कि कंगन-अंगूठी प्यारी है या बेटा। इसमें जो तुम्हारे जेठ का प्रेत है, वो उसके पति या बेटे को 28 दिन में अपने साथ ले जाएगी। दंडी स्वामी से कंगन व अंगूठी से प्रेत आत्मा निकलवाकर दिसंबर तक वापस करने का बोलकर दोनों जेवर ले गया।

लाल दाने आए तो बोला ये खजाने की गर्मी है

पीड़िता के मुताबिक 3 दिसंबर 2020 को उसकी पिंडली से जांघ तक लाल-लाल दाने आ गए। उसने अरुण को बताया तो वह बोला कि ये घर में गड़े खजाने की गर्मी है। गुरुजी से बात करने का बोलकर कुछ देर बाद खुद आ गया। बोला कि गुरुजी ने एक मंत्र दिया है। मैं पढ़ूंगा और तुम्हारी बेटी लाल-लाल दानों पर तेल लगाएगी। आरोपी ने बेडरूम में उससे कपडे़ उतरवा लिए। फिर उसकी बेटी काे तेल लाने भेज दिया। दुपट्‌टा महिला की आंखों पर बांधते हुए खुद उसके शरीर पर तेल लगाने लगा। महिला ने चिल्लाकर विरोध किया तो बोला कि उसके घर में गड़े धन की गर्मी ने उससे ऐसा करा दिया। फिर वो भाग गया। महिला ने पति को इसके बारे में बताया।

पैसे-जेवर मांगने पर करता रहा टालमटोल

आरोपियों की मंशा अब तक परिवार समझ चुका था। इसके बाद उन्होंने आरोपियों से अपने 3.55 लाख रुपए, 6 तोला के जेवर और आईफोन मांगा। आरोपियों ने कुछ दिन की मोहलत मांगी। परिवार भी लोकलाज के डर से चुप रह गया। पर वे पैसे नहीं दे रहे थे। दो साल तक आरोपी परिवार को बरगलाते रहे। आखिर में परिवार ने आरोपियों को सबक सिखाने की ठानी और थाने पहुंच कर FIR दर्ज कराई।

Powered by Blogger.