MPPSE EXAMS 2022 : 2019 व 2020 का अंतिम परिणाम अभी तक घोषित नहीं, 5 साल की मेहनत लगी दांव पर, बड़ी संख्या में कैंडिडेट्स ओवरएज हुए

मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी परीक्षा, राज्य सेवा परीक्षा-2021 का प्रीलिम्स 19 जून को आयोजित होने जा रहा है। लेकिन 2019 व 2020 का अंतिम परिणाम अब तक घोषित नहीं हुआ है। ऐसे में पिछले तीन सालों की भर्ती प्रक्रिया में निर्धारित शेड्यूल से काफी देरी हो गई है।

अब साल 2019 व 2020 भर्ती के लगभग 10 हजार उम्मीदवार इस असमंजस में हैं कि वे प्री की तैयारी करें या मेंस की या फिर इंटरव्यू की। क्योंकि अंतिम परिणाम घोषित न होने से उन्हें अगली परीक्षाओं के लिए भी आवेदन करना पड़ता है।

इसके अलावा 2021 की परीक्षा 2022 में होने से प्रीलिम्स देने वाले दो से सवा 2 लाख प्रतिभागी भी प्रभावित हुए हैं। एमपीपीएससी परीक्षा विशेषज्ञ मयंक मिश्रा बताते हैं, परीक्षा में देरी से बड़ी संख्या में कैंडिडेट्स ओवरएज हो गए हैं और उनके हाथ से ये अवसर निकल गया है।

5 साल की मेहनत लगी दांव पर

साल 2019 का इंटरव्यू इस साल अप्रैल में ही आयोजित होना था। इस परीक्षा में कुल 1918 उम्मीदवारों का चयन साक्षात्कार के लिए हुआ था। लेकिन साल 2020 में राज्य सरकार द्वारा आरक्षण के नियमों में किए गए बदलाव की वजह से इस भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी।

अब इस परीक्षा का प्री का रिजल्ट नए सिरे से जारी किया जाएगा। ऐसे में 1918 उम्मीदवारों को यह डर है कि प्रीलिम्स का नए सिरे से रिजल्ट जारी होने से कहीं उनका नाम बाहर न हो जाए। एमपीपीएससी परीक्षा विशेषज्ञ लखन यादव बताते हैं कि 2019 की परीक्षा का मेन्स दे चुका छात्र वर्ष 2017 से तैयारी कर रहा है। यानी उसे तैयारी करते हुए पांच से छह साल बीत चुके हैं। ऐसे छात्र फिलहाल काफी मानसिक दबाव में हैं।

साल-दर-साल ऐसे प्रभावित हो रहे हैं उम्मीदवार

वर्ष-2019 1918 उम्मीदवार इंटरव्यू के लिए हुए चयनित, भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगाए जाने से इनका चयन हुआ प्रभावित।

वर्ष-2020 7711 कैंडिंडेट्स ने पास किया प्री। मेंस भी हो चुका है। ये इस संशय में हैं कि 2020 के इंटरव्यू की तैयारी करें या फिर 2021 प्री की।

वर्ष-2021 2.25 लाख उम्मीदवार प्री में शामिल होते हैं औसतन हर साल। परीक्षा में देरी से ये उम्मीदवार भी हुए हैं प्रभावित।

सेना की नौकरी छोड़ी, मेन्स क्लियर, 6 महीने से इंटरव्यू का इंतजार

3 साल पहले सेना की नौकरी छोड़ एमपीपीएससी की तैयारी करने वाले विमल (बदला हुआ नाम) 2019 का मेन्स क्लियर कर चुके हैं। वे 6 महीने से इंटरव्यू का इंतजार कर रहे हैं। विमल के पास अभी 6 साल की नौकरी बची थी। चयन नहीं हुआ तो उन्हें दोहरा नुकसान होगा।

कई अभ्यर्थियों पर 4-4 परीक्षाओं का है बोझ

साल 2019 का मेन्स दोबारा होगा या नहीं अभी तक यह स्पष्ट नहीं है। इससे 2019 में शामिल हुए वे उम्मीदवार जो 2020 की परीक्षा में भी मेन्स तक पहुंच चुके हैं उनके सामने 2021 का प्री, 2020 का इंटरव्यू व साल 2019 के मेन्स व इंटरव्यू की तैयारी को लेकर असमंजस है।

इसके अलावा साल 2020 की परीक्षा में 7711 उम्मीदवारों ने मेन्स दिया है। रिजल्ट न आने से ये उम्मीदवार भी इस असमंजस हैं कि वे 2020 की इंटरव्यू की तैयारी करें या फिर 2021 के प्री की।

For the last three years, the candidates are trapped in the preparation of prelims, mains and interview, due to the delay in the recruitment process, 2.5 lakh candidates are affected."><meta name="news_keywords" content="For the last three years, the candidates are trapped in the preparation of prelims, mains and interview, due to the delay in the recruitment process, 2.5 lakh candidates are affected.

Powered by Blogger.