Bihar को 21 जून तक जलाने की प्लानिंग : दिल्ली में बैठे लोगों ने रची हिंसा की पटकथा, स्टूडेंट्स की आड़ में उपद्रवी तत्व भी शामिल


केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना की आग में पूरा बिहार बीते 4 दिन से झुलस रहा है। इस दौरान एक पैसेंजर की मौत हो गई है तो 15 ट्रेनों को फूंक दिया गया है। बिना नेता का आंदोलन बिहार से शुरू होकर पूरे देश में फैल गया। ऐसा हुआ कैसे? कौन इस आग को हवा दे रहा है?

किसके इशारे पर हजारों युवा आगजनी, मारपीट और लूटपाट पर उतारू हो गए हैं? और ये हिंसात्मक प्रदर्शन कब तक चलेगा? इन सब सवालों को जानने के लिए मीडिया ने काफी पड़ताल की।

हमारी पड़ताल में पता चला कि इस साजिश में कई कोचिंग संचालक भी शामिल हैं। इसके बाद मीडिया टीम ने उनका स्टिंग ऑपरेशन करने पहुंची तो कई चौंकाने वाली बातें सामने आई। हमे पता चला कि बिहार को 21 जून तक जलाने की प्लानिंग है।

बिहार में हिंसा की प्लानिंग या कहें कि पटकथा दिल्ली में बैठे लोगों ने रची है। वे अपने नेटवर्क के सहारे स्थानीय कोचिंग संचालकों से संपर्क करते हैं और उन्हें लड़कों को तैयार करने का आदेश देते हैं। इसके बाद संचालक युवाओं की भावनाओं को भड़काते हैं। इसके लिए बाकायदा वीडियो का इस्तेमाल भी किया जाता है।

10 स्टूडेंट्स देने की बात पर खुले संचालक

हमारी टीम शाम 5 बजे पटना के बाजार समिति स्थित एक स्कूल में चल रहे प्रशिक्षण केंद्र पहुंची। बारिश धीरे-धीरे तेज होने लगी थी। इस दौरान भी कुछ लड़कियां हाई जंप की प्रैक्टिस कर रही थीं, तो लगभग 25-30 लड़के अलग से खड़े थे। तभी वहां केंद्र के संचालक पहुंचे। उनके पहुंचते ही सभी लड़के पैर छूने लगे।

बिहार की राजधानी पटना समेत 25 जिलों में पिछले तीन दिन में जमकर उपद्रव हुआ। दानापुर-लखीसराय स्टेशन समेत आधा दर्जन से ज्यादा स्टेशनों पर आगजनी की गई।
बिहार की राजधानी पटना समेत 25 जिलों में पिछले तीन दिन में जमकर उपद्रव हुआ। दानापुर-लखीसराय स्टेशन समेत आधा दर्जन से ज्यादा स्टेशनों पर आगजनी की गई।

शुरू में वो हमें कुछ भी बताने से बच रहे थे। जब हमने उन्हें बताया कि हम उन्हें 10 स्टूडेंट्स प्रशिक्षण के लिए दे सकते हैं, तब उन्होंने एक-एक कर पूरी कहानी बताई। साथ ही उन्होंने स्कूल की जमीन पर अपना प्रशिक्षण केंद्र खोलने की भी कहानी सुनाई।

इसके बाद हम गांधी मैदान पहुंचे। यहां मुख्य संचालक गायब थे (पुलिस की सख्ती बढ़ने के बाद)। वहां मौजूद संस्थान के प्रशिक्षक ने बताया कि सर अभी एक-दो दिन से नहीं आ रहे हैं।

इसके बाद उनसे हमारी बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ। हम उनसे एक स्टूडेंट्स की तरह मिले। उन्होंने बताया कि फिलहाल आर्मी की तैयारी के लिए 50-60 लड़के और इतनी ही लड़कियां आती हैं। बिहार पुलिस के दारोगा की भी तैयारी वे कराते हैं। 2500 रुपए फीस के साथ 4500 में रहने की भी व्यवस्था करा देते हैं।

जब हमने उनसे प्रदर्शन से डर की बात बताई, तब उन्होंने एक-एक कर पटना से लेकर दिल्ली तक के नेटवर्क की पूरी कहानी बताई। पढ़िए कोचिंग संचालक की बातचीत...

सवाल: मुझे ट्रेनिंग लेनी है, कब से आ जाऊं?

जवाब: कल सुबह 5 बजे से आ जाइए।

सवाल: प्रदर्शन में कहीं नाम तो नहीं आ जाएगा?

जवाब: सुबह पहले सब प्रैक्टिस करते हैं। इसके बाद प्रदर्शन में जाते हैं।

सवाल: इतनी बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स् कैसे जमा होते हैं?

जवाब: सभी एक जगह के नहीं होते। अलग-अलग जगह से लाया जाता है। जैसे- पटना में प्रदर्शन करना है तब नालंदा, हिलसा, हरनौत, जहानाबाद से स्टूडेंट्स को लाया जाता है।

सवाल: ये पूरा संचालित कौन कर रहा है? आपको कहां से निर्देश मिल रहा है?

जवाब: यह सब दिल्ली से संचालित हो रहा है। एक वॉट्सऐप ग्रुप बनाकर 3-4 लाख बच्चों को जोड़ा गया है।

सवाल: सभी को जमा कैसे करते हैं?

जवाब: उन्हें समझाते हैं कि अगर अपने हक के लिए अभी खड़े नहीं हुए तो पहले आर्मी में फिर राज्य पुलिस में इस तरह की योजना लागू कर दी जाएगी।

सवाल: पुलिस आप लोगों को ढूंढ रही है?

जवाब: इसीलिए तो ज्यादा सामने नहीं आ रहे हैं।

सवाल: वीडियो क्यों बनाना पड़ा आपको ?

जवाब: हम वीडियो के माध्यम से सरकार की इस योजना का विरोध कर रहे हैं।

प्रदर्शनकारियों ने 11 ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया। ट्रेन में आग लगने की वजह से लखीसराय में एक व्यक्ति की मौत भी हो गई थी।
प्रदर्शनकारियों ने 11 ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया। ट्रेन में आग लगने की वजह से लखीसराय में एक व्यक्ति की मौत भी हो गई थी।

युवाओं को दिखाते हैं सुसाइड वाले वीडियो

हमारी पड़ताल में पता चला कि कोचिंग संचालक सोशल मीडिया पर लगातार वीडियो जारी कर युवाओं की भावनाओं को भड़का रहे हैं। सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर वीडियो जारी कर यह बता रहे हैं कि आज सेना में इसे लागू किया गया है। आने वाले दिनों में इसे राज्य पुलिस में भी लागू कर दिया जाएगा।

वे अलग-अलग तर्क के माध्यम से सरकार की योजना को बच्चों 

के भविष्य के साथ खिलवाड़ बता रहे हैं। पटना के बाजार समिति में संचालित एक प्रशिक्षण संस्थान तो योजना के बाद देशभर में हो रही आत्महत्या के आंकड़े को गिना रहा है। वो वीडियो के माध्यम से युवाओं को आंदोलन के लिए उकसा रहा है।

स्टूडेंट्स की आड़ में उपद्रवी तत्व भी भीड़ में हो रहे शामिल

ADG लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह ने मीडिया को बताया, 'कोचिंग संचालकों की भूमिका पर राज्यभर में जांच की जा रही है। हर जिले के SP को उनकी भूमिका की जांच का आदेश दिया गया है। इस आंदोलन में अब स्टूडेंट्स की आड़ में उपद्रवी भी शामिल हो रहे हैं, पुलिस सभी को चिन्हित कर रही है।' उन्होंने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही वे इस मामले पर कुछ भी स्पष्ट बता पाएंगे।

प्रदर्शनकारियों ने 4 दिनों में रेलवे की 200 करोड़ की संपत्ति खाक कर दी। ट्रेनों की 60 बोगियों के साथ 11 इंजन आग के हवाले कर दिए गए।
प्रदर्शनकारियों ने 4 दिनों में रेलवे की 200 करोड़ की संपत्ति खाक कर दी। ट्रेनों की 60 बोगियों के साथ 11 इंजन आग के हवाले कर दिए गए।

कोचिंग संचालकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी

कोचिंग संचालकों की भूमिका को लेकर पटना के DM चंद्रशेखर सिंह ने भी जांच के आदेश दिए हैं। अब तक गिरफ्तार किए गए छात्रों के मोबाइल पर कुछ कोचिंग सेंटरों के वीडियो फुटेज और वॉट्सऐप मैसेज मिले हैं। उसके आधार पर कोचिंग सेंटरों की भूमिका की जांच कर रहे हैं। जिन कोचिंग संस्थानों की संलिप्तता पाई जाएगी, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बिहार के 15 जिलों में 19 जून तक इंटरनेट बंद कर दिया गया।सोशल नेटवर्किंग साइट और मैसेजिंग सर्विस भी बंद करने का आदेश दिया गया है।
बिहार के 15 जिलों में 19 जून तक इंटरनेट बंद कर दिया गया। सोशल नेटवर्किंग साइट और मैसेजिंग सर्विस भी बंद करने का आदेश दिया गया है।

इंटरनेट बंद मैसेजिंग पर भी पाबंदी

हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए 15 जिलों में 19 जून तक इंटरनेट बंद कर दिया गया। कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, बक्सर, नवादा, पश्चिम चंपारण, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, दरभंगा और सारण में सोशल नेटवर्किंग साइट और मैसेजिंग सर्विस को दो दिनों के लिए बंद करने का आदेश दिया है।

Powered by Blogger.