चंद सेकंड या मिनटों में YOG कैसे शरीर को सेहतमंद और स्वस्थ रख सकता है, अगर आपके मन में भी ये सवाल है तो जानिए इसका जवाब

 

चंद सेकंड या मिनटों में YOG कैसे शरीर को सेहतमंद और स्वस्थ रख सकता है, अगर आपके मन में भी ये सवाल है तो जानिए इसका जवाब


कविता- पिता जो थे..

अब भी अमिट है अंतस में जुग-जुग पुरानी वो बारहखड़ी जब घुप्प अंधेरे ही उछरते थे ढोर-डांगर ठाण से, घरर-घरर घट्टी से लगी छेड़ती थी मिसरी-सी प्रभाती पटेलन बुआ तो उठ खड़े होते थे पिता जो थे घर-भर के बाबा सा समेटकर कथरी-गोदड़ी चल पड़ते थे रोज़-रोज़ ही खेत-बाड़ी की जानी-बूझी पगडंडियों पर और लौटते टेम-बेटेम तो धक्क-से रह जाते कलेजे कि अब बस बरसेंगे सवाल- कौन कहां है? किसने क्या खाया रुच-रुच या बे-मन से? किसने क्या क्यों नहीं पीया? कौन रूठा पड़ा है सूनी गुवाड़ी में? ऐसे ही इस-उसके सुख-दुःख के बहाने बांच लेते अंगनाई में पनपते डाल-पातों का भविष्य। यों ही क्षितिज के उस पार निहारते चल पड़ते फिर से संघर्ष की अनथक यात्रा पर। ....अब जब-जब भी खुलते-जुड़ते हैं घर-कपाट यहां वह जानी-पहचानी आवाज़ बरबस कौध-सी उठती है भीतर ही भीतर कहीं गहरे में।

चंद सेकंड या मिनटों में YOG कैसे शरीर को सेहतमंद और स्वस्थ रख सकता है, अगर आपके मन में भी ये सवाल है तो जानिए इसका जवाब

ग़ज़ल- मैले मन धो गए

खिड़की, दरवाज़ों, कुंदों पर बिंबित-से हो गए पिताजी। अब भी लगता है चुपके से धरती पर सो गए पिताजी।

धोखा, चोरी, झूठ, तकाज़े, दूर रहे सबसे हम अब तक, सीख-सिखावन रीति-नीति से नेह-बीज बो गए पिताजी।

बूझ लिया गर, ‘कैसे हैं जी?’ बोले, ‘बस है नहीं हिंडोला,’ इसी तरह हंसते-बतियाते मैले मन धो गए पिताजी।

मालिश-पट्टी, भाव-भजन सब ज्यों के त्यों ही धरे रह गए, आंखों ही आंखों के सन्मुख क्यों कैसे खो गए पिताजी।

भैया-भाभी लल्ला-लल्ली, रहे ताकते अपलक आतुर, पीछे मुड़कर देख न पाए, एक बार जो गए पिताजी।

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read