इंदौर आई बड़ी स्टार कास्ट : Sanjay Dutt ने कहा ; ज़िंदगी के इस सफर में मैं कई बार गिर-गिर के उठा हूं, मेरी सबसे बड़ी ताक़त मेरे माता-पिता की दुआएं...

 

इंदौर आई बड़ी स्टार कास्ट : Sanjay Dutt ने कहा ; ज़िंदगी के इस सफर में मैं कई बार गिर-गिर के उठा हूं, मेरी सबसे बड़ी ताक़त मेरे माता-पिता की दुआएं...

ज़िंदगी के इस सफर में मैं कई बार गिर-गिर के उठा हूं, कई बार टूट कर फिर बना हूं और इस पूरी यात्रा में मेरी सबसे बड़ी ताक़त मेरे माता-पिता की दुआएं रहीं। मैं भोले बाबा का भी बहुत बड़ा भक्त हूं। उनका हाथ मेरे सिर पर हमेशा रहा है। इन्हीं के सहारे हर तकलीफ से निकल कर फिर उठ खड़ा हुआ।' यह संजय दत्त ने इंदौर में शुक्रवार शाम कहा। वे अपनी आगामी फिल्म शमशेरा के प्रमोशन के लिए आए थे। शुक्रवार रात 8 बजे के बाद इंदौर पहुंचे।

संजू बाबा के सैकड़ों फैंस उनकी एक झलक पाने के लिए शाम 5 बजे से ही एयरपोर्ट के बाहर जमा हो गए थे। बाबा ने हाथ हिलाकर अपने फैंस का आभार व्यक्त किया और टीम के साथ एमजी रोड स्थित ट्रेजर आईलैंड मॉल के लिए रवाना हो गए। मॉल में बने पीवीआर सिनेमा में फिल्म का ट्रेलर लॉन्च किया गया और फिर कलाकारों ने पत्रकारों से बात की।

जब-जब मैं खलनायक बना, पिक्चर हिट हुई

संजय से पूछा गया कि जब भी उन्होंने खलनायक का किरदार निभाया है, फिल्म हिट हुई है। संजू बाबा ने कहा- हां यह सही है कि जब-जब मैं विलेन बना हूं पिक्चर चली है, लोगों का बहुत प्यार मिला है लेकिन इसका क्रेडिट डायरेक्टर को जाता है। मैं तो अपने आप को डायरेक्टर के हवाले कर देता हूं। फिर जैसा डायरेक्टर कहें, करता हूं। रणबीर फिल्म में डबल रोल में हैं।

नायक शमशेरा और उसके पिता दोनों का किरदार उन्होंने निभाया है। उन्होंने कहा कि यह किरदार निभाना मुश्किल रहा क्योंकि फिल्म का सब्जेक्ट इंटेंस है। डायरेक्टर की सोच को घोलकर पीना पड़ा, तब जाकर शमशेरा को समझ पाया मैं।

बचपन में मेरे कबर्ड में संजय दत्त का पोस्टर लगा होता था : रणबीर

रणबीर जब संजय दत्त के बारे में बात कर रहे थे तब उन्होंने अपनी कुर्सी से उठकर, उनके सम्मान में खड़े होकर बात की.. और बोले- मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि फिल्म संजू में परदे पर संजय दत्त की कहानी कहने के लिए मुझे चुना गया। बचपन में मेरे कबर्ड में जिस एक्टर का पोस्टर लगा होता था, उसकी ज़िंदगी पर बनी फिल्म में मुझे उसी का किरदार निभाने का मौका मिल गया। एक्टर के तौर पर वे जो हैं वह तो बेमिसाल हैं ही, लेकिन उनके लिए लोगों के लिए जो मोहब्बत मैंने देखी है वह किसी के लिए नहीं देखी। मैं एक फिल्म फैमिली से हूं, लेकिन मैंने किसी के लिए ऐसी दीवानगी नहीं देखी। जब बाबा सेट पर होते हैं तो हर कोई उनके पास बैठना चाहता है। बस इतना पूछना चाहता है कि बाबा कैसे हो और इस प्यार का कारण यह है कि उनका दिल साफ है, जिसमें हर किसी के लिए प्रेम है।

इससे पहले संजय दत्त फिल्म कलंक की शूटिंग के लिए इंदौर आए थे जो लालबाग और महेश्वर में की गई थी। बताया जा रहा है कि शमशेरा 22 जुलाई को हिंदी, तिल और तेलुगु में रिलीज़ की जाएगी।

संजू फिर नज़र आएंगे विलेन के किरदार में

फिल्म की कहानी काज़ा के काल्पनिक शहर पर आधारित है, जहां एक योद्धा जनजाति को एक क्रूर सत्तावादी जनरल शुद्ध सिंह द्वारा कैद कर गुलाम बनाया जाता है और प्रताड़ित किया जाता है। शमशेरा नाम का गुलाम इनका नेता बनता है और अपने कबीले की आजादी और सम्मान के लिए संघर्ष करता है। फिल्म में शुद्ध सिंह का किरदार संजय दत्त और शमशेरा का किरदार रणबीर कपूर ने निभाया है। राजू हिरानी की फिल्म संजू के बाद रणबीर बड़े परदे पर नजर नहीं आए। वे तकरीबन तीन साल की गैप के बाद सिल्वरस्क्रीन पर वापसी कर रहे हैं। यशराज बैनर के लिए भी यह महत्वपूर्ण फिल्म है क्योंकि दो साल से बैनर की लगभग सभी फिल्में फ्लॉप रही हैं।

कोरोना के बाद पहली बार इंदौर आई बड़ी स्टार कास्ट

19वीं सदी की पृष्ठभूमि पर आधारित यह फिल्म एक डेकॉइट ड्रामा है जो 2018 में अनाउंस की गई थी और 2019 में रिलीज़ होने वाली थी लेकिन कोरोना के चलते रिलीज़ को जून 2021 में रीशेड्यूल किया गया पर इस बार भी सेकंड वेव के चलते फिल्म सिनेमाघरों तक नहीं पहुंची। अब यह 22 जुलाई 2022 को तीन भाषाओं में रिलीज़ की जाएगी।

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read