REWA : भ्रष्टाचारी पुलिस अफसरों को लोकायुक्त ने पकड़ा : आर्म्स एक्ट से नाम हटाने गोविंदगढ़ टीआई ने 10 हजार तो ASI 3 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

 
REWA : भ्रष्टाचारी पुलिस अफसरों को लोकायुक्त ने पकड़ा : आर्म्स एक्ट से नाम हटाने गोविंदगढ़ टीआई ने 10 हजार तो ASI 3 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

( ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा। लोकायुक्त की टीम ने दो भ्रष्टाचारी पुलिस अफसरों को पकड़ा है। दोनों एक केस में गंभीर धाराएं हटाने के नाम पर व्यक्ति से पैसे मांग रहे थे। पैसे न देने पर दबाव बना रहे थे। पीड़ित ने लोकायुक्त कार्यालय पहुंचकर शिकायत की। एसपी ने गोपनीय जांच कराई तो शिकायत सही पाई गई। 10 नवंबर को जैसे ही दोनों ने थाना परिसर में 13 हजार की रकम ली, वैसे ही लोकायुक्त की टीम ने उन्हें रंगे हाथ दबोच लिया। लोकायुक्त टीम ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई जारी रखी है।

लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि गोविंदगढ़ थाना प्रभारी एसएस बघेल व एएसआई देशराज सिंह की ​शिकायत आई थी। तब अश्विनी मिश्रा पुत्र रमाकांत निवासी अमिलकी का कहना था कि आर्म्स एक्ट के प्रकरण से नाम हटाने के एवज में 13 हजार की रकम मांगी जा रही थी।

पैसे न देने पर 12 सितंबर को अपराध क्रमांक 329/21 धारा 308, 193, 182, 109, 120 बी आईपीसी एवं 25(1-B)(A), 27 आर्म्स एक्ट के केस में आरोपी बनाया जा रहा था। 13 हजार रिश्वत देने पर शिकायतकर्ता का नाम हटाए जाने की बात कही जा रही थी।

लोकायुक्त टीम ने गोविंदगढ़ थाना परिसर स्थित निरीक्षक आवास में बुधवार की सुबह 8.30 बजे थाना प्रभारी एसएस बघेल ने 10 हजार की रिश्वत की रकम ली थी, जबकि सहायक उपनिरीक्षक देशराज सिंह परिहार सुबह 9 बजे 3 हजार की रकम लेकर जेब में रख लिए थे। साथ ही वह थाने के अंदर बैठे हुए थे। जिनको आवास और थाने से गिरफ्तार किया गया। लोकायुक्त टीम ने केमिकल युक्त पानी से हाथ धुलवाया तो दोनों लाल हो गए। थाना परिसर में सुबह से लेकर दोपहर तक अफरा-तफरी का माहौल व्याप्त रहा। हर कोई थाने की ओर जाने से डर रहा था।

TI और SI हुए निलंबित
रीवा एसपी नवनीत भसीन ने दोपहर तक लोकायुक्त द्वारा ट्रैप हुए गोविंदगढ़ थाना प्रभारी एसएस बघेल और उपनिरीक्षक देशराज सिंह परिहार को निलंबित कर पुलिस लाइन बुला लिया है। एसपी ने कहा ​है कि दोषी पुलिस अधिकारी और कर्मचारी को जिम्मेदारी वाला कार्य नहीं दिया जाएगा। वे अमिलकी रेलवे पु​ल में गोली चलने व लूट के मामले में आरोपी को बचाने के लिए रिश्वत मांगी थी। लेकिन दोनों की करतूत लोकायुक्त ने उजागर कर दी।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या गूगल न्यूज़ या ट्विटर पर फॉलो करें. www.rewanewsmedia.com पर विस्तार से पढ़ें  मध्यप्रदेश  छत्तीसगढ़ और अन्य ताजा-तरीन खबरें

विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें  7694943182, 6262171534

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read