GOOD NEWS : मुकुंदपुर चिडिय़ाघर में आ रहा एक और नया मेहमान, नाम है अर्जुन ....

 

GOOD NEWS : मुकुंदपुर चिडिय़ाघर में आ रहा एक और नया मेहमान, नाम है अर्जुन ....

Mukundpur rewa : रेस्क्यू कर लाए गए अर्जुन को अब जंगल की खुली हवा में सांस लेने का मौका नहीं मिलेगा। उसका नया घर मुकुंदपुर चिडिय़ाघर ही होगा। अब हमेशा के लिए अर्जुन यहीं का होकर रह जाएगा। एपीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ ने चिडिय़ाघर में अर्जुन को रखने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। जल्द ही लोगों के लिए इसे बाड़े में छोड़ा जाएगा। 

SIDHI की बेटी प्रियंका ने बढ़ाया विंध्य का मान : यूरोप के जॉर्जिया में अंतरराष्ट्रीय वुशू प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक की किया अपने नाम

ज्ञात हो कि मार्तण्ड सिंह जूदेव चिडिय़ाघर एवं रेस्क्यू सेंटर में डेढ़ साल पहले कटनी जिला के बरही से 8 महीने के एक यलो बाघ को रेस्क्यू कर लाया गया था। चिडिय़ाघर पहुंचने के बाद इस यलो बाघ का नाम अर्जुन रखा गया था। अर्जुन बांधवगढ़ से भटकते हुए बरही पहुंच गया था। यह कुंए में गिर गया था। 

यात्रीगण कृपया ध्यान दें : 8 से 14 अगस्त को निरस्त रहेगी रीवा-इतवारी-रीवा एक्सप्रेस ट्रेन

बांधवगढ़ की टीम ने कुंए से बाहर निकालने के बाद अर्जुन को मार्तण्ड सिंह जुदेव चिडिय़ाघर मुकुंदपुर भेज दिया था। तब से अर्जुन यहीं रह रहा था। अब उसकी उम्र दो साल के करीब हो गई है। अर्जुन अब बड़ा हो गया है। इसे वापस जंगल में छोडऩे की जगह चिडिय़ाघर में ही रखे जाने की अनुमति वाइल्ड लाइफ   पीसीसीएफ से मांगी गई थी। भोपाल पीसीसीएफ ने अर्जुुन की आजादी पर रोक लगा दी है। 

TRS कॉलेज में फर्जी प्रोफेसर पकड़ाया : कॉलेज स्टाफ के पैर छूकर खुद को रिश्तेदार बताता, छात्राओं की शिकायत पर पहुँची पुलिस

अब अर्जुन खुली हवा में सांस नहीं ले पाएगा। उसके जंगल लौटने की उम्मीदें खत्म कर दी गई हैं। पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ ने अर्जुन को चिडिय़ाघर में ही रखे जाने की अनुमति दे दी है। जल्द ही इसे रेस्क्यू सेंटर से बाड़े में डाल दिया जाएगा। लोगों को दीदार के लिए नया यलो बाघ मिल जाएगा और चिडिय़ाघर प्रबंधन  को एक और बाघ मिल जाएगा।

चिडिय़ाघर में नहीं रख सकते

वन्य जीव अधिनियम के तहत रेस्क्यू कर लाए गए वन्यजीवों को सीधे तौर पर चिडिय़ाघर में नहीं रखा जा सकता। रेस्क्यू सेंटर में इलाज के बाद उन्हें वापस जंगल में छोडऩे का नियम है। सेंट्रल जू अथॉरिटी ओर वाइल्ड लाइफ की अनुमति जरूरी होती है। अर्जुन को रखने की स्वीकृति मिल चुकी है। यही वजह है कि अब उसे जल्द ही बाड़े में छोडऩे की तैयारी है। अर्जुन छोटी उम्र से ही चिडिय़ाघर पहुंच गया था। यही वजह है कि इसे चिडिय़ाघर में ही आगे भी रखने की स्वीकृति मांगी गई थी।

वर्तमान में मुकुंदपुर चिडिय़ाघर में वन्यजीव की स्थिति

प्रजाति                                                       कहां से लाए                                                 संख्या

सफेद बाघ                                                    छत्तीसगढ़                                                  03

पीला बाघ                                            औरंगाबाद, महाराष्ट्र                                             06

तेंदुआ                                                           भोपाल                                                      04

स्लाथ वियर                                                 भोपाल                                                        04

सांभर                                                    मैत्री बाग, छत्तीसगढ़                                          11

चीतल                                                          भोपाल                                                       44

ब्लैक बक                                                    भोपाल                                                       20

नीलगाय        --                                                                                                             03

वाइल्ड वोर                                                   भोपाल                                                       03

थॉमिन डीयर                                                नई दिल्ली                                                   06

बारासिंघा                                                     लखनऊ                                                     04

हॉग डियर                                               छत्तीसगढ़, ग्वालियर दिल्ली                              15

ब्लैक बक                                                    नई दिल्ली                                                   05

चिंकारा                                                         जोधपुर                                                      04

ईमू                                                                नई दिल्ली                                                  04

शुतुरमुर्ग                                                        तेलंगाना                                                     02

कामन पाम सीवेट                                          नई दिल्ली                                                   03

हायना                                                                                                                             02

जैकाल                                                          ग्वालियर                                                     05

मगरमच्छ                                                       ग्वालियर                                                    03

पारकुपाइन                                                                                                                      01

जंगल कैट                                                                                                                        01

ऊदबिलाव                                                                                                                       01

चौसिंघा                                                                                                                            01

योग                                                                                                                                160        

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read