MCU रीवा परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस का आयोजन : पत्रकारिता समाज में चेतना और जागृति फैलाने का कार्य करती है ...

 

MCU रीवा परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस का आयोजन : पत्रकारिता समाज में चेतना और जागृति फैलाने का कार्य करती है ...

REWA NEWS : माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल द्वारा रीवा परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस के उपलक्ष पर  "ग्रामीण विकास में हिंदी  पत्रकारिता का योगदान"  विषय पर संगोष्ठी एवं प्रतिभा पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन हुआ। तत्पश्चात माखनलाल पत्रकारिता रीवा परिसर प्रभारी सूर्य प्रकाश की  पुस्तक "टेलीविजन प्रोग्राम प्रोडक्शन तकनीकी आयाम"  का विमोचन हुआ। 

MCU रीवा परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस का आयोजन : पत्रकारिता समाज में चेतना और जागृति फैलाने का कार्य करती है ...

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के रीवा कैंपस में ग्रामीण विकास में हिंदी पत्रकारिता का योगदान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जहां मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री व रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ल, विशिष्ट अतिथि के रूप में समाजसेवी पुष्पराज सिंह व वरिष्ठ पत्रकार जयराम शुक्ल मौजूद रहे। संगोष्ठी के मुख्य वक्ता प्रोफेसर राजकुमार आचार्य कुलपति एपीएसयू रीवा उपस्थित रहे। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर केजी सुरेश ने की।

MCU रीवा परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस का आयोजन : पत्रकारिता समाज में चेतना और जागृति फैलाने का कार्य करती है ...

प्रोफेसर राजकुमार आचार्य 

भारत गांवों का देश है। पर इसे बैलगाड़ी झोपड़ियों और मजदूरों की संरचना पर नहीं देखना चाहिए। हमें ग्रामीण विकास की संकल्पना को नए आयामों से देखना होगा। पत्रकारिता समाज में चेतना और जागृति फैलाने का कार्य करती है।

राजेंद्र शुक्ल 

ग्रामीण विकास के बिना भारत के विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। ग्रामीण विकास में आधारभूत संरचनाएं बिजली, पानी व सड़क का विकास किया जा रहा है। उन्होंने विवि की सफलता व ग्रामीण पत्रकारिता के साथ अन्य पाठ्यक्रमों की शुरुआत पर कुलपति को बधाई दी।

जयराम शुक्ल 

ग्रामीण पत्रकारिता में विभिन्न हिंदी समाचार पत्रों के योगदान को याद करते हुए रीवा रियासत कालीन पत्रकार लाल बलदेव सिंह की ग्रामीण जन जीवन सुधार के लिए पत्रकारिता को अपना हथियार बनाने पर ध्यानाकर्षण किया। उन्होंने जल संरक्षण पर विशेष ध्यान देने की बात कही।

पुष्पराज सिंह 

कि संगोष्ठी का विषय इतना व्यापक है कि इसे संक्षिप्त में रखना बहुत मुश्किल कार्य है। उन्होंने ग्रामीणों के पलायन पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे रोकने हेतु नवाचारों को अपनाने और ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर बुनियादी अवसंरचना बढ़ाने का आह्वान किया।

रजिस्ट्रार डॉ. अविनाश वाजपेई 

ग्रामीण पत्रकारिता पाठ्यक्रम के सफल संचालन के लिए रीवा परिसर को बधाई दी। उन्होंने बताया कि रीवा अंचल ग्रामीण क्षेत्रों से संलग्न है। ऐसे में विश्वविद्यालय द्वारा संचालित पाठ्यक्रम ग्रामीण विकास के योगदान में महती भूमिका निभाएगा। बताया कि विश्वविद्यालय ने सुदूर अंचलों तक छात्रों को कंप्यूटर साक्षरता देने का कार्य किया है।

परिसर प्रभारी सूर्य प्रकाश 

कि शहरों और गांवों में भेद बढ़ा है। ग्रामीण समाज आज भी विभिन्न बुनियादी सुविधाओं के अभाव में है। हिंदी पत्रकारिता ने ग्रामीण समुदाय की समस्याओं को प्रमुखता से उजागर किया है। जिससे ग्रामीण परिवेश में परिवर्तन की लहर प्रारंभ हो चुकी है।

कुलपति केजी सुरेश 

परिसर को बढ़ाने पर जोर दिया। साथ ही पाठ्यक्रम एवं विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों की जानकारी दी। कार्यक्रम के समापन में अतिथियों का आभार उप कुलसचिव दीपेंद्र सिंह बघेल ने किया। कार्यक्रम में प्रतिभा 2022 के विजेताओं को पुरस्कार दिया गया। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के सभी शिक्षकों के साथ ही भारी मात्रा में विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read