रीवा के मयंक ने गाड़े सफलता के झंडे : UPSC में मयंक मिश्रा की लगी 228वीं रैंक : पहले CISF में कमांडेंट, फिर UP डीएसपी अब IAS में चयन

 

रीवा के मयंक ने गाड़े सफलता के झंडे : UPSC में मयंक मिश्रा की लगी 228वीं रैंक : पहले CISF में कमांडेंट, फिर UP डीएसपी अब IAS में चयन

रीवा जिले के त्योंथर ब्लॉक अंतर्गत कोनिया खुर्द के मयंक मिश्रा ने सफलता के झंडे गाड़ दिए है। मीडिया से बातचीत में शिक्षक शारदा प्रसाद मिश्रा ने अपने बेटे मयंक मिश्रा के बचपन से लेकर जवानी तक के किस्से शेयर किए। UPSC के सेकंड अटेम्प्ट में मिली सफलता पर कहा कि मयंक ने 228वीं रैंक लाने के लिए दिन रात एक कर दिए है।

MCU रीवा परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस का आयोजन : पत्रकारिता समाज में चेतना और जागृति फैलाने का कार्य करती है ...

संघ लोक सेवा आयोग के रिजल्ट आने से पहले CISF में कमांडेंट, फिर यूपी DSP, अब IAS में चयन होना तय है। हालांकि उसका 5 जून को फिर UPSC का पेपर है। अब उसने टॉप 100 में आने पर फोकस किया है। उसने महज एक साल दिल्ली के बाजीराव आईएएस एकेडमी में कोचिंग लिया था। लेकिन असली सफलता कोरोना काल की पढ़ाई से मिली है।

रीवा जिले में तेजतर्रार पूर्व कलेक्टर रह चुकी एम गीता की अचानक तबीयत हुई खराब : दिल्ली के BL कपूर अस्पताल में भर्ती

गांव से लेकर भोपाल तक की पढ़ाई

1 अप्रैल 1994 को कोनिया खुर्द के सहायक अध्यापक शारदा प्रसाद मिश्रा के घर में जन्मे मयंक मिश्रा तीन बेटी और एक बेटे में दूसरे नंबर के है। वह कक्षा एक से लेकर 5वीं तक की पढ़ाई शारदा देवी मेमोरियल स्कूल चिल्ला से की। इसके बाद कक्षा 6 से 10वीं तक जवाहर नवोदय विद्यालय सिरमौर में अध्ययन किया। लेकिन भविष्य के सपने लेकर भोपाल चले गए। यहां जवाहर विद्यायल भेल से कक्षा 11वीं और 12वीं की पढ़ाई की। साथ ही आईआईटी की 2 साल तक कोंचिग की।

साउदी अरब में की नौकरी

वर्ष 2011 में आईआईटी का टेस्ट निकालने के बाद एनआईटी भोपाल के सिविल विभाग से 2015 में बीटेक कम्प्लीट किए। यहीं से कमानी इंजीनियरिंग इंटरनेशनल लिमिटेड मुंबई ने कैंपस सिलेक्शन कर लिया। जिसके बाद 6 माह तक मुंबई और डेढ साल तक साउदी अरब में नौकरी की। इसी बीच अच्छी खासी सैलरी भी मिली। लेकिन इंजीनियरिंग का पेशा मयंक मिश्रा को नहीं जमा, वह रिजाइन कर दिल्ली पहुंच गए।

डीएसपी के पद पर ज्वाइनिंग का निर्णय

बाजीराव आईएएस एकेडमी दिल्ली में जून 2017 से 2018 तक कोचिंग की। इसी बीच 2018 में केन्द्रीय गृह मंत्रालय की परीक्षा में CISF के कमांडेंट पद पर चयन हो गया। ज्वाइनिंग से चार दिन पहले 2019 में यूपी पीसीएस का रिजल्ट आ गए। ऐसे में यूपी डीएसपी के पद पर 31 मई 2021 को ज्वाइनिंग का निर्णय ले लिए। साथ ही कोरोना काल में पढ़ाई जारी रखी, लेकिन 2020 के रिजल्ट में 14 नंबर से UPSC मिस हो गई।

रीवा में दिल दहला देने वाला मामला : गर्लफ्रेंड को शादी करने का सपना दिखाकर घर से भगाया, फिर बनाया हवस का शिकार : गिरफ्तार

28 साल में IAS के पद पर सिलेक्शन

वर्तमान समय में मयंक मिश्रा डॉ. भीमराव अंबेडकर पुलिस एकेडमी मुराबाद उत्तर प्रदेश से डीएसपी की ट्रेनिंग कर रहे है। उनकी कसम परेड लास्ट जून 2022 में होगी। पिता ने बताया कि डीएसपी की ट्रेनिंग के दौरान ही संघ लोक सेवा आयोग की तैयारी करते रहे। नतीजन सेकंड अटैम्ट में 228वीं रैंक मिली है। अब 5 जून 2022 को फिर से यूपीएससी का एग्जाम है। जिसमे अच्छी रैंक लाने का लक्ष्य रखा है।

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read