REWA : बहुचर्चित राज निवास मामला : जेल के अंदर संजय अचानक से बेहोश होकर गिरे, जेल में हड़कंप : इलाज के लिए SGMH में भर्ती

 

REWA : बहुचर्चित राज निवास मामला : जेल के अंदर संजय अचानक से बेहोश होकर गिरे, जेल में हड़कंप : इलाज के लिए SGMH में भर्ती

ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट, रीवा/भोपाल. इस वक्त की बड़ी खबर से आपको रूबरू करा रहे हैं बहुचर्चित राज निवास मामले में सह आरोपी रहे संजय त्रिपाठी  संजय गांधी अस्पताल के गंभीर वार्ड में भर्ती।

  • अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय त्रिपाठी की जानमाल को जेल में खतरा, दहशत में परिवार
  • न्यायालय के जारी आदेश एवं अधिवक्ता राजीव सिंह परिहार (शेरा) की पैरवी पर जेल से संजय गांधी के लिए रेफर हुए संजय त्रिपाठी।

  • जी हां.... राजनीतिक संयंत्र के चलते संजय त्रिपाठी को जेल में पुलिस अधीक्षक एवं रीवा जेलर द्वारा की जा रही जान से मारने की कोशिश. 

मिली जानकारी के अनुसार यह आरोप लगाया जा रहा है कि पुलिस अधीक्षक एवं रीवा जेल के जेलर द्वारा राजनीतिक संयंत्र के चलते संजय त्रिपाठी को जेल के अंदर ही जान से  मारने की योजना बनाई जा रही है। सह आरोपी संजय त्रिपाठी के साथ जेल में किया जा रहा बुरा बर्ताव,खेला जा रहा पुलिसिया गेम।

आपको बता दें कि अचानक से संजय त्रिपाठी की जेल में तबीयत खराब हो गई जिस पर मिली जानकारी के अनुसार रीवा जेलर और डॉक्टर के बीच वार्तालाप पर यह कहा गया कि दो-तीन दिन की दवा दे दो सब ठीक हो जाएगा वही स्थिति जब अति गंभीर हो गई उसके बाद भी उनको अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया। उनके परिजनों ने अस्पताल में भर्ती करने की गुहार लगाई उसके बाद भी जेलर ने एक न सुनी, वही आनन-फानन में परेशान परिवार ने न्यायालय की शरण ली, जहां मामले की गंभीर स्थिति को देखते हुए अधिवक्ता राजीव सिंह परिहार (शेरा) ने संजय त्रिपाठी की पैरवी करते न्यायालय के जारी आदेश से तत्काल उनकी गंभीर स्थिति को देखते हुए संजय गांधी के गंभीर वार्ड में भर्ती कराया। 

  • अगर संजय की जान गई तो इसका जिम्मेदार कौन?
संजय के साथ खेला जा रहा कार्टून पॉलीटिकल गेम

जेल के अंदर रची जा रही जान से मारने की कोशिश, पुलिस अधीक्षक और जेलर पर लगे आरोप, संजय की जान गई तो इसका जिम्मेदार कौन?

आखिर किसके कहने पर संजय के साथ खेला जा रहा यह गेम?

आखिरकार संजय को क्यों फंसाया जा रहा, क्यों रची जा रही है ऐसी रणनीति शाजिश, हद तब हो गई जब जेल के अंदर ही रची जा रही जान से मारने की रणनीति, शासन-प्रशासन पर खड़े हुए सवाल??

आपको बता दे की संजय जेल के बैरक नंबर 4 में अचानक बिहोश होकर गिर पड़े, इस घटना के बाद जेल में हड़कंप मच गया और संजय का उपचार जेल में ही शुरु किया गया। बता दें कि संजय त्रिपाठी पर दो दर्जन से ज्यादा पुराने मामले चल रहे है। जिसे देखते हुए जेल प्रबंधन पूरी सतर्कता बरत रहा है।

सिंगरौली : अजब प्रेम की गजब कहानी : 32 साल की तलाकशुदा महिला को 16 साल के नाबालिग पर आया दिल, षड्यंत्र रच जबरन कराई शादी

हालांकि हालत और बिगड़ते गए जिसके बाद संजय को जिला प्रशासन की अनुमति के बाद SGMH में भर्ती कराया गया है। संजय पर कई मामलो का आरोप है, ऐसे में उनकी तबियत खराब होने पर जेल प्रबंधन भी हरकत में आ गया। SGMH के बंदी वार्ड में रखकर संजय त्रिपाठी का उपचार किया जा रहा है। 

जानकारी के मुताबिक संजय बैरक नंबर चार में अचानक बेहोश होकर गिर पड़े, जिसके बाद उनके मूँह से झाग निकलने लगा, जिसकी सूचना जेल प्रहरियों ने अधीक्षक सहित चिकित्सक को दी जिसके बाद तत्काल उनका उपचार शुरु किया गया।

चर्चाओं के अनुसार संजय त्रिपाठी का बीपी और शुगर काफी बढ़ा हुआ है इतना ही नहीं लकवा जैसी शिकायत होने के भी दावे किए जा रहे हैं, बता दें कि संजय त्रिपाठी पहले से ही बड़ी बिमारियों के गिरफ्त में हैं जिसके चलते ही उनको पैरोल पर छोड़ा गया था। 

Related Topics

Share this story

From Around the Web

Most Read