Aayushi murder case exposed :  मर्जी के खिलाफ शादी करने पर पिता ने मारी थी गोली, लाश को सूटकेस में पैक कर यमुना एक्सप्रेस-वे पर फेंका

 
IMAGE

Aayushi murder case exposed : मथुरा के आयुषी चौधरी हत्याकांड का पर्दाफाश हो गया है। पुलिस के मुताबिक उसे पिता ने ही गोली मारी थी। वारदात में मां ने भी साथ दिया था। हत्या दिल्ली के बदरपुर स्थित घर पर की गई। बाद में लाश को लाल सूटकेस में पैक करके 150 किलोमीटर दूर मथुरा जिले के राया इलाके में यमुना एक्सप्रेस-वे पर फेंक दिया गया था। 18 नवंबर को आयुषी की लाश बरामद हुई थी।

जानिए पूरा मामला

1. दूसरी जाति के लड़के से था अफेयर 22 साल की आयुषी का भरतपुर के रहने वाले छत्रपाल नाम के लड़के से अफेयर था। दोनों ने एक साल पहले आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली थी। आयुषी अपने मां-पिता के घर पर रह रही थी। घरवाले शादी के खिलाफ थे। 17 नवंबर की दोपहर आयुषी का मां से झगड़ा हुआ। मां ने पिता को इसकी सूचना दी। नाराज पिता घर आए। उन्होंने आयुषी को समझाया, लेकिन वह मानने को तैयार नहीं थी। गुस्से में पिता ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से आयुषी के सीने में दो गोलियां दाग दीं। उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

2. दुकान से पॉलिथीन लाए और लाश सूटकेस में पैक की
आयुषी की हत्या के बाद पिता घर के पास की दुकान से पॉलिथीन खरीद कर लाए। दोपहर में उसकी लाश को सूटकेस में पैक किया। देर रात 3 बजे कार में सूटकेस रखा और 150 किलोमीटर दूर मथुरा के पास यमुना एक्सप्रेस-वे पर सुबह 5 बजे फेंक दिया। इसके बाद 7 बजे दिल्ली चले गए। कार पिता चला रहा था और मां आगे वाली सीट पर बैठी थी।

3. दो दिन बाद मां और भाई ने आकर की शिनाख्त
रविवार को मथुरा में पोस्टमॉर्टम हाउस पहुंची आयुषी की मां ब्रजवाला और भाई आयुष ने शव की शिनाख्त की। शिनाख्त के बाद परिवार बिना किसी से बात किए सीधे पुलिस के साथ गाड़ी में बैठकर निकल गया। मीडिया ने सवाल करने की कोशिश की, लेकिन मां और भाई कुछ भी नहीं बोले।

4. पहचान करते समय मां और भाई रो रहे थे
आयुषी BCA में पढ़ रही थी। पहचान करते समय मां और भाई की आंखों में आंसू आ गए। वह एक-दूसरे के गले लगकर रोने लगे। आयुषी हत्याकांड में सबसे चौंकाने वाली बात यह थी कि पुलिस खुद परिवार तक पहुंची। यानी, परिवार ने पुलिस को आयुषी के लापता होने के बारे में कोई जानकारी नहीं दी थी। न ही गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

5. आयुषी का नीट में नाम आया, काउंसिलिंग में नहीं गई
पूछताछ में यह भी सामने आया कि आयुषी ने नीट एग्जाम क्लियर कर लिया था, लेकिन वह काउंसिलिंग में नहीं गई। माता-पिता ने काउंसिलिंग में शामिल होने के लिए काफी मान-मनौवल की, लेकिन आयुषी नहीं मानी। पिता ने बताया कि वह हर बात पर परिवार का विरोध करने लगी थी।

6. एक कॉल से आयुषी तक पहुंची पुलिस
दिल्ली से मथुरा पुलिस के पास एक कॉल आई थी। इसमें सूटकेस में मिली मृत लड़की के परिवार के बारे में जानकारी दी थी। पुलिस दावा कर रही है कि मुखबिर ने यह कॉल किया था। हालांकि एक बात यह भी सामने आ रही है कि आयुषी के ही किसी परिचित ने मथुरा पुलिस को फोन करके जानकारी दी।

image

100 पुलिस कर्मियों की टीम ने 300 CCTV कैमरे खंगाले
सूटकेस में मिली लाश का खुलासा मथुरा पुलिस के लिए बड़ा चैलेंज था। पुलिस ने लड़की की शिनाख्त के लिए 100 पुलिस कर्मियों की 14 टीमें बनाई थीं। पुलिस ने घटनास्थल से लेकर टोल प्लाजा तक करीब 300 CCTV की रिकॉर्डिंग खंगाली। इसके बाद भी लड़की की शिनाख्त नहीं हो पा रही थी। तभी पुलिस को एक कॉल आई। इसमें बताया गया कि बदरपुर के मोड़बंद की रहने वाली लड़की दो दिन से गायब है। यह सूचना ही पुलिस के लिए काफी थी। इसके आधार पर पुलिस की एक टीम लड़की के घर पहुंची।

मुख्यमंत्री और DGP कार्यालय से ली जा रही थी अपडेट

शुक्रवार यानी 18 नवंबर को जब शव मिला और यह खबर मीडिया की सुर्खियां बनी तो लखनऊ से मथुरा पुलिस के पास फोन आने लगे। मुख्यमंत्री और DGP ऑफिस से मामले की हर अपडेट मांगी जा रही थी। युवती के शव की जब शिनाख्त हो गई, उसके बाद मथुरा के एसपी सिटी मार्तंड प्रकाश सिंह ने इसकी जानकारी मुख्यमंत्री और DGP ऑफिस को दी।

लड़की के बाएं हाथ में कलावा और काला धागा बंधा था
लड़की काली रंग की टी-शर्ट और हाफ पैंट पहने थी। कपड़ों से लग रहा था कि वह अच्छे परिवार की है। लड़की की लंबाई करीब 5 फीट 2 इंच थी। रंग गोरा, काले और लंबे बाल थे। स्लेटी कलर की टी-शर्ट हाफ बाजू की पहने थी, जिस पर Lady Days लिखा हुआ था। नीले और सफेद रंग की पैंट पहनी हुए थी। बाएं हाथ में कलावा और काला धागा भी बंधा हुआ था। पैरों में हरे रंग की नेल पॉलिश लगी थी। इसके अलावा लड़की के सीने में सटाकर गोली मारी गई थी। उसके शरीर पर कई जगह चोटों के निशान भी मिले थे।

Related Topics

From Around the Web

Latest News