SOCIAL MEDIA पर मुख्‍यमंत्री के नाम से फैलाई थी झूठी अपील, पुलिस गिरफ्त में आरोपी


मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से उत्‍पन्‍न हालातों के बीच सोशल मीडिया के विभिन्‍न माध्‍यमों पर असामाजिक तत्‍वों द्वारा झूठी खबर फैलाने का काम बड़ी तेजी से किया जा रहा है। इस तरह की भ्रामक जानकारियां फैलाने का उद्देश्य सिर्फ तनाव उत्‍पन्‍न करना है। ऐसी ही एक फेक अपील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नाम से भी सोशल मीडिया पर काफी वायरस हो रही थी। अपील को सोशल मीडिया पर गलत, असत्‍य, कूटजनित और मिथ्‍यापूर्वक तरीके से प्रचारित क्या गया, जो दंडनीय है। मामले को लेकर कटनी के थाना माधवनगर में अपराध क्रमांक 223/20 के तहत धारा 66D आईटी एक्ट 505बी, 507 आईपीसी के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। साथ ही, सिवनी के केवलारी थाना में भी इस संबंध में आईपीसी की धारा 188 के तहत केस दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार किया है।


सरकार ने दिये ऐसे लोगों से सख्ती से निपटने के निर्देश
प्रदेश सरकार भी सोशल मीडिया या अन्य किसी माध्यम से अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्ती से निपटने के निर्देश दिये हैं। सरकार की ओर से कहा गया कि, सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सरकार ने स्पष्ट किया है कि 1 अप्रैल 2020 से तालाबंदी करने और गोली मारने की बात पूरी तरह से झूठी और अफवाह है। जनसंपर्क विभाग ने स्पष्ट किया कि, इस तरह की कोई अपील सरकार की ओर से जारी नहीं की गई है। सरकार सोशल मीडिया में इस तरह की अफवाह फैलाने वालों पर नजर रख रखे हुई है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


फैलई जा रही थी ये फेक अपील
कोरोना लॉकडाउन के बीच कुछ शरारती तत्व सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने के काम में जुट गए हैं। ऐसी ही एक अपील सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम से वायरल की गई। इसमें लिखा गया है कि- लॉकडाउन का अच्छे तरह से पालन नहीं करने के कारण मध्य प्रदेश में 1 अप्रैल से सभी घरों पर ताला लगाया जाएगा और इसके बावजूद यदि कोई व्यक्ति घर के बाहर दिखा तो उसे गोली मार दी जाएगी।
Powered by Blogger.