खुशखबरी : अब नहीं होगी विंध्य से बाहर जाने की जरूरत, REWA के सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल में हृदय से संबंधित ऑपरेशन सुविधा शुरू


रीवा . मेडिकल कालेज तथा संजय गांधी हास्पिटल से रोगियों को उपचार सुविधा मिल रही है। बड़े रोगों के उपचार के लिए सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल शुरू किया गया है। इसमें अब हृदय रोग से संबंधित जटिल ऑपरेशन होने लगे हैं। सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल में एंजियोप्लास्टी तथा चार हृदय रोगियों की एंजियोग्राफी की गई। जिन रोगों के उपचार के लिए विंध्य क्षेत्र के रोगियों को भोपाल, जबलपुर, नागपुर, बनारस अथवा अन्य किसी बड़े शहर जाना पड़ता था उनके उपचार की सुविधा सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल में शुरू हो गई है।


दो हृदय रोगियों को सफलता पूर्वक पेसमेकर लगाये गये
सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल के प्रभारी डॉ. सुधाकर द्विवेदी ने बताया कि हास्पिटल में दो दिन पूर्व दो हृदय रोगियों को सफलता पूर्वक पेसमेकर लगाये गये। आज गुढ़ निवासी महेश प्रसाद साकेत की एंजियोप्लास्टी सफलता पूर्वक की गई। श्री साकेत मधुमेह तथा उच्च रक्तचाप से कई वर्षों से पीड़ित हैं उन्हें वर्ष 2007 में हार्ट अटैक हो चुका है। उन्हें दो दिन पूर्व सीने में तेज दर्द के कारण हास्पिटल में भर्ती कराया गया। सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल में डॉ. केडी सिंह, डॉ. प्रदीप तथा डॉ. सुनील त्रिपाठी ने उनकी जांच कर सफलता पूर्वक एंजियोप्लास्टी की। श्री साकेत अब पूरी तरह से स्वस्थ हैं। उन्हें दो दिन बाद हास्पिटल से छुट्टी दे दी जायेगी।




दस नर्सों की ड्यूटी लगाई गई

प्रभारी ने बताया कि सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल में धीरे-धीरे उपचार की सभी प्रमुख सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही हैं। तकनीशियन के अभाव में कई उपचार सेवाएं बाधित थीं। रीवा संभाग के कमिश्नर राजेश कुमार जैन की विशेष पहल पर संविदा में आठ तकनीशियनों की भर्ती की गई है। हास्पिटल में संजय गांधी हास्पिटल से दस नर्सों की ड्यूटी लगाई गई है। जिसके कारण सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल में ऑपरेशन तथा ऑपरेशन के बाद रोगियों के देखभाल की समुचित व्यवस्था हो रही है।


तकनीशियनों के रिक्त पदों की पूर्ति के प्रयास किये जा रहे
सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल गंभीर रोगियों को उपचार सुविधा देने में विन्ध्य क्षेत्र के लिए वरदान साबित होगा। हास्पिटल में डाक्टरों तथा अन्य तकनीशियनों के रिक्त पदों की पूर्ति के प्रयास किये जा रहे हैं। यहां सभी विभागों में उपचार सुविधा शुरू हो जाने पर क्षेत्र के रोगियों को उपचार के लिए अन्य किसी शहर में जाने की आवश्यकता नहीं होगी।


Powered by Blogger.