INDORE : खुशियां लौटीं : जन्माष्टमी पर मां के पास पहुंचा 'कान्हा' : गुजरात से अपहरण कर लाया था बदमाश


इंदौर. जन्माष्टमी पर एक कान्हा अपनी मां के पास पहुंच गया है। बदमाश ने उसे अगवा किया और फिर इंदौर में छोड़कर भाग गया था। छोडऩे से पहले बच्चे की टीशर्ट पर एक पर्ची चिपका गया, जिसमें उसके अगवा होने की कहानी लिखी थी। किसान ने उसे रोते देखा तो मदद के लिए उठाया और जब कपड़े पर चिपकी पर्ची पढ़ी तो पुलिस को सूचना दी। किसान की इंसानियत और पुलिस की मदद से जन्माष्टमी पर उनकी खुशियां वापस लौट आईं हैं।


पुलिस के अनुसार दो साल के पीयूष पिता जितेंद्र निवासी मोरवी (गुजरात) को उसके परिवार तक पहुंचा दिया गया है। गुजरात पुलिस उसे लेने आई थी। वह किसान नूतन पाटीदार को सिलिकॉन वैली के पास भटकता मिला था। पाटीदार ने बताया कि सोमवार शाम को खेत पर थे। इसी दौरान बच्चा रोता दिखा। बच्चा जिस तरह से रो रहा था। उससे साफ था कि माता-पिता से बिछड़ा है। उन्हें लगा कि आसपास के किसी मजदूर परिवार का है। वह कहीं किसी हादसे का शिकार न हो जाए, इसके चलते उन्होंने बच्चे को उठा लिया। आसपास देखा तो कोई भी नहीं मिला। बच्चा लगातार रो रहा था। उसे चुप कराने में उनका ध्यान बच्चे की टीशर्ट पर लगी पर्ची पर गया। इस पर देखा तो उसमें गुजरात से अपहरण की बात लिखी हुई थी। इस पर तुरंत ही पुलिस को सूचना दी। राऊ पुलिस का दल वहां पहुंचा। एसआई अनिला पाराशर ने बच्चे के माता-पिता के नंबर के आधार पर उनकी वीडियो कॉल से बात कराई। इसके साथ ही गुजरात पुलिस को भी सूचना दी। गुजरात से कल पुलिस का दल और परिजन आए थे। वह बच्चे को अपने साथ लेकर चले गए।


जन्माष्टमी पर मां के पास पहुंचा 'कान्हा'जन्माष्टमी पर मां के पास पहुंचा 'कान्हा'

यह लिखा था चिट्ठी में

मैं संजू राठौर, मैंने बच्चा गुजरात से उठाया है। बच्चे न होने के कारण गुजरात से उठाकर लाए थे। अब उसे गलती का अहसास हो गया है। अब वह पछता रहा है। इसके चलते बच्चे को वहां छोड़कर जा रहा है। बच्चा जिसको भी मिले, वह गुजरात के मोरवी थाने पर संपर्क कर उन्हें सूचना दे दे।


पुलिस लगी थी पीछे

कल गुजरात पुलिस का दल भी वहां पर आया था। बच्चे के पिता जीतू भाई गुजरात में मिस्त्री का काम करते हैं और मोरवी थाना क्षेत्र में रहते हैं। 7 अगस्त को बच्चे को अगवा किया गया था। पड़ोसी दंपती पर शक होने पर पुलिस उन्हें ट्रेस कर रही थी। पहले उनकी लोकेशन, उज्जैन, देवास और फिर पीथमपुर की मिली थी। पीथमपुर में एटीएम से रुपए भी निकाले थे। संभवत: उन्हें लग गया होगा कि पुलिस पकड़ लेगी। इसी के चलते आरोपी ने बच्चे को राऊ क्षेत्र में छोड़ दिया।


Powered by Blogger.